20 सेंटीमीटर गोल होनी चाहिए रोटी वरना पत्नी पर उतरता है सारा गुस्सा - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

20 सेंटीमीटर गोल होनी चाहिए रोटी वरना पत्नी पर उतरता है सारा गुस्सा

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
दुनिया में अजीबोगरीब किस्से घटित होते रहते हैं। अक्सर तालमेल न होने की वजह से शादीशुदा जिन्दगी में तनाव उत्पन्न हो जाता है। ऐसा ही वाकया पुणे की एक महिला के साथ घटित हुआ है। यहां की एक महिला अपने पति से इसलिए तलाक़ लेना चाहती है क्योंकि उसका इंजीनियर पति उस पर तरह-तरह के प्रोटोकॉल लगाता रहता है। मसलन रोटी 20 सेंटीमीटर गोल होनी चाहिए, ब्रेकफ़ास्ट का मेन्यू एक दिन पहले भेजकर मंजूरी लेनी होगी, हर दिन अलग-अलग खाना बनेगा, प्रतिदिन आटा, चावल, दाल, तेल और साबुन कितना ख़र्च हुआ उसका हिसाब नोटबुक में लिखना होगा, फिर इन सभी डीटेल्स की एक्सेल शीट रिपोर्ट बनाकर ई-मेल भेजनी होगी। पति की मंज़ूरी के बाद ही खाना बनेगा। ज़रूरी बातचीत भी ईमेल से ही करनी होगी।
महिला ने अपने पति और ससुराल वालों पर न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी (जेएमएफसी) के समक्ष घरेलु हिंसा का मामला दर्ज किया है। रिपोर्ट के मुताबिक़, इस महिला की शादी साल 2008 में हुई थी। जबकि पति पेशे से इंजीनियर है। महिला ख़ुद भी कम्प्यूटर साइंस से एमएससी हैं। महिला ने बताया कि शुरुआत में सब कुछ ठीक चलता रहा, मगर कुछ समय बाद पति ने अजीबो-गरीब हरकतें शुरू कर दीं। हर दिन कोई न कोई नया प्रोटोकॉल लगा दिया जाता था। हर रोज़ सुबह अपने पति को एक लिस्ट देती थी, जिसमें सुबह के नाश्ते का मेन्यु होता था। पति उनमें से कोई एक डिश अप्रूव करता था, फिर घर में वही नाश्ता बनता था। रोटी का साइज़ 20 सेमी से ज़्यादा नहीं होने पर उसकी जांच करना। महिला ने बताया कि ‘हर काम के लिए मुझे एक एक्सेल शीट भरनी होती थी।
उस एक्सेल शीट में 3 कॉलम बने होते थे। पहला, पूरा किया गया काम, दूसरा, अधूरे काम के लिए जबकि तीसरा वो काम जो चल रहा हो। पति के निर्देशों के मुताबिक अगर कोई टॉस्क पूरा नहीं हो पता था तो शीट में उसका कारण भी लिखना पड़ता है।  शाम को ऑफ़िस से घर आकर पति एक्सल शीट चेक करता था। घर में कितना आटा पिसाना है, कितना चावल रखना है, बाज़ार से कितनी सब्ज़ी ख़रीदनी है। इसकी भी एंट्री की जाती थी। पति से कुछ पूछना हो तो इसके लिए ई-मेल करनी होती थी।
महिला ने बताया कि छोटी-छोटी बात पर मारपीट और झगड़ा करने से तंग आकर मैं आत्महत्या करना चाहती थी, मगर बेटी को देखकर हिम्मत नहीं जुटा पाती थी। हिंसा सिर्फ़ पत्नी के साथ ही नहीं, बल्कि उनकी छह साल की बेटी के साथ भी होती थी। एक बार तो मेरे पति किचन से चाकू लेकर बेटी के पीछे मारने के लिए भी दौड़ पड़े थे, लेकिन मैंने बीच बचाव कर बेटी को बचाया। पत्नी ने अपनी याचिका में पति की अजीब शर्तों से परेशान होने की बात कहते हुए तलाक की मांग की है। इस महिला की वकील सुप्रिया डोंगरे ने बताया कि वो 2017 से पति से अलग रह रही हैं। दोनों पति-पत्नी पढ़े लिखे हैं। कोर्ट में इस मामले की सुनवाई अप्रैल में होगी।