देश के 8 प्रमुख IIT में शिक्षकों के 36 फीसदी पद खाली, RTI में हुआ खुलासा - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

देश के 8 प्रमुख IIT में शिक्षकों के 36 फीसदी पद खाली, RTI में हुआ खुलासा

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
देश के आठ प्रमुख भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (आईआईटी) में दाखिला पाने वाले करीब 66,000 स्टूडेंट्स फैकल्टी के अभाव से जूझ रहे हैं. सूचना के अधिकार (आरटीआई) से खुलासा हुआ है कि देश के इन शीर्ष इंजीनियरिंग संस्थानों में औसत आधार पर शिक्षकों के लगभग 36 प्रतिशत स्वीकृत पद खाली पड़े हैं.

ये भी पढ़ें- IIT खड़गपुर में प्लेसमेंट के पहले दिन 400 से ज्यादा स्टूडेंट्स को मिला जॉब ऑफर

मध्यप्रदेश के नीमच निवासी आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने "पीटीआई-भाषा" को बताया कि उनकी अर्जी के जवाब में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय के एक आला अधिकारी ने उन्हें 26 नवंबर को भेजे पत्र में सूचना के अधिकार के तहत यह जानकारी दी है.

ये भी पढ़ें- घर बैठे कमाना चाहते हैं हजारों तो इन वेबसाइट्स पर तुरंत बना लें प्रोफाइल

आरटीआई के तहत मुहैया कराये गये आंकड़े बताते हैं कि मुंबई (बॉम्बे), दिल्ली, गुवाहाटी, कानपुर, खड़गपुर, चेन्नई (मद्रास), रूड़की और वाराणसी स्थित आईआईटी में फिलहाल 65,824 विद्यार्थी पढ़ रहे हैं. इन आईआईटी में पढ़ा रहे शिक्षकों की संख्या 4,049 है, जबकि इनमें फैकल्टी के कुल 6,318 पद स्वीकृत हैं. यानी 2,269 पद खाली रहने के कारण इन संस्थानों में करीब 36 प्रतिशत शिक्षकों की कमी है. औसत आधार पर इन आठ संस्थानों में विद्यार्थी-शिक्षक अनुपात 16 : 1 है. यानी वहां हर 16 विद्यार्थियों पर एक शिक्षक नियुक्त है.

ये भी पढ़ें- QS Ranking 2018: आईआईटी बॉम्बे भारत की बेस्ट यूनिवर्सिटी, जानें टॉप 10 में कौन

शिक्षकों की कमी के मामले में सबसे गंभीर स्थिति वाराणसी स्थित आईआईटी बीएचयू में है जहां अलग-अलग पाठ्यक्रमों में 5,485 विद्यार्थी पढ़ रहे हैं. इस प्रतिष्ठित संस्थान में 548 स्वीकृत पदों के मुकाबले केवल 265 शिक्षक काम कर रहे हैं. यानी इस संस्थान में शिक्षकों के 283 पद खाली पड़े हैं और यह आंकड़ा स्वीकृत पदों के मुकाबले करीब 52 प्रतिशत की कमी दर्शाता है. इस संस्थान में हर 21 विद्यार्थियों पर एक शिक्षक है.

ये भी पढ़ें- CISF में हो रही हैं बंपर भर्तियां, ग्रेजुएट हैं तो जल्द से जल्द करें अप्लाई

वरिष्ठ शिक्षाविद् और करियर सलाहकार जयंतीलाल भंडारी ने इन आंकड़ों की रोशनी में कहा, "देश में आईआईटी की तादाद अब बढ़कर 23 पर पहुंच चुकी है. ऐसे में यह बात बेहद चिंतित करने वाली है कि आठ प्रमुख आईआईटी शिक्षकों की कमी से अब तक जूझ रहे हैं. जब इन संस्थानों में यह हाल है, तो इस सिलसिले में नये आईआईटी की हालत का अंदाजा लगाया जा सकता है." उन्होंने कहा कि आईआईटी में शिक्षकों की कमी को सरकार द्वारा सर्वोच्च प्राथमिकता से दूर किया जाना चाहिये, क्योंकि इस अभाव से शीर्ष इंजीनियरिंग संस्थानों में उच्च शिक्षा की गुणवत्ता प्रभावित हो रही है.

ये भी पढ़ें- नवोदय विद्यालय में कराना चाहते हैं अपने बच्चे का एडमिशन तो पढ़ें ये जरूरी खबर

आरटीआई के तहत मिले आंकड़ों के मुताबिक स्वीकृत पदों के मुकाबले शिक्षकों की कमी आईआईटी खड़गपुर में 46 प्रतिशत, आईआईटी रूड़की में 42 प्रतिशत, आईआईटी कानपुर में 37 प्रतिशत, आईआईटी दिल्ली में 29 प्रतिशत, आईआईटी मद्रास में 28 प्रतिशत, आईआईटी बॉम्बे में 27 प्रतिशत और आईआईटी गुवाहाटी में 25 प्रतिशत के स्तर पर है.

करियर और जॉब्स से जुड़ी दूसरी खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें