इन चीजों के आगे फेल है विज्ञान, नहीं है कोई जवाब - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

इन चीजों के आगे फेल है विज्ञान, नहीं है कोई जवाब

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
हमें रोजाना कई चीजों के बारे में जानते  हैं उनमें  कुछ सामान्‍य होती हैं जबकि कुछ इतनी रोचक होती है कि हम सोचते हैं कि ऐसा कैसे? और अगर हम ऐसी चीजों का वैज्ञानिक कारण जानना चाहें तो हम पाएंगे कि विज्ञान के पास भी इन चीजों का जवाब नहीं है।
एलियंस का रहस्‍य
धरती के अलावा दूसरे ग्रहों पर जीवन की हमेशा बात होती रही है। ऐसे में एलियंस की मौजूदगी के कई बार संकेत मिले लेकिन प्रत्यक्ष प्रमाण नहीं मिल पाए। कई लोग कहते हैं कि उन्होंने उड़नतश्तरियां और एलियंस देखें हैं लेकिन उनका अस्तित्व भी एक अनसुलझा रहस्य है। विज्ञान के पास भी इसका कोई जवाब नहीं है।
चुम्बक के ध्रुव
यह भी विज्ञान का एक अनसुलझा रहस्य है। आप चुम्बक को चाहे कितने ही टुकड़ों में बांट दो लेकिन फिर भी उसके उत्तरी और दक्षिणी ध्रुव होते हैं। आश्चर्य की बात है ना! यदि किसी छड़ के केन्द्र को धागे से बांध दिया जाये या उसे उसी के सहारे स्वतन्त्र रूप से हवा में लटका दिया जाये तो इस छड़ की स्थिति अचल रूप से उत्तर-दक्षिण दिशा की ओर हो जाती है।
भूत होते हैं या नहीं
भूत यह बहस बरसों से चलती आ रही है कुछ लोग इस बात पर यकीन नहीं करते कि भूत होते हैं लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि भूत होते हैं। अब अब सवाल यह उठता है कि क्या वाकई भूत होते हैं? आत्माए, भूत, प्रेत होते है या नही, यह सदियों से एक बहस का विषय रहा है। लेकिन विज्ञान को सर्वोपरि मानने वाले लोग इन पर जरा भी विश्वास नहीं करते। विज्ञान कहता है कि भूत होते ही नहीं है यह केवल मानसिक भ्रम है जब कि कुछ लोग कहते हैं कि उनका भूत से सामना हो चुका है। इस बात का आज तक कोई पुख्ता सबूत नहीं है।
पक्षियों का प्रवास
पक्षियों के बिना आसमान अधूरा है। आकाश में उड़ते हुए पक्षियों का झुंड एक बहुत ही प्रेरणादायक दृश्य है। प्रवास, किसी भी जाति के लिए, गर्मी और सर्दी के निवास स्थानों के बीच एक बड़े स्तर पर किया गया आवधिक गमन-आगमन है। ये पक्षियों का, अपना जीवन बचाने के लिए, समय के साथ हुआ क्रम-विकास है। लेकिन पक्षी किसी विशेष मौसम में एक स्थान से दूसरे स्थान पर कैसे जाते हैं यह समझ नहीं आता।