गर्भधारण करने में काफी बड़ा रॉल निभाती है पैरों की बिछिया - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

गर्भधारण करने में काफी बड़ा रॉल निभाती है पैरों की बिछिया

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
भारतीय महिलाएं अपने सोलह श्रृंगार, आभूषणों एवं पहनावे के लिए प्रसिद्ध हैं। माथे की बिंदी से लेकर, पांव में पहनी जाने वाली बिछिया तक, हर एक वस्तु का अपना ही महत्व है। परंपराओं के साथ-साथ इन आभूषण एवं श्रृंगार सामग्री का कुछ ना कुछ वैज्ञानिक महत्व भी है जो उनके स्वास्थ्य पर प्रभाव डालता है। भारत के कई स्‍थानो पर शादी के बाद तो कहीं पहले से ही बिछिया पहने का चलन है। इस पहनावे से उसकी सुंदरता और बढ़ जाती है ।
# शादी हमारे समाज का पवित्र और प्यार का रिश्ता है ! भारत में शादी के बाद औरतों द्वारा बिछिया पहनने का रिवाज है। कई लोग इसे सिर्फ शादी का प्रतीक और परंपरा मानते हैं लेकिन इसके पीछे एक वैज्ञानिक कारण भी है। इस बिछिया का संबंध सीधा गर्भाशय से जुड़ा होता है ।
# यह बातें कोई बनावटी नही है ! इनका लेख शास्त्रों में भी मिलता है, दोनों पैरों में चांदी की बिछिया पहनने से महिलाओं को आने वाला मासिक चक्र नियमित हो जाता है। इससे महिलाओं को गर्भ धारण में आसानी होती है। चांदी विद्युत की अच्छी संवाहक मानी जाती है। धरती से प्राप्त होने वाली ध्रुवीय उर्जा को यह अपने अंदर खींच पूरे शरीर तक पहुंचाती है, जिससे महिलाएं तरोताज़ा महसूस करती हैं।
# विज्ञानं के अनुसार पैरों के अंगूठे की तरफ से दूसरी अंगुली में एक विशेष नस होती है जो गर्भाशय से जुड़ी होती है। यह गर्भाशय को नियंत्रित करती है और रक्तचाप को संतुलित कर इसे स्वस्थ रखती है। बिछिया के दबाव से रक्तचाप नियमित और नियंत्रित रहता है और गर्भाशय तक सही मात्रा में पहुंचता रहता है।
# बिछिया अपने प्रभाव से धीरे-धीरे महिलाओं के तनाव को कम करती है, जिससे उनका मासिक-चक्र नियमित हो जाता है। इसका दूसरा फायदा यह है कि बिछिया महिलाओं के प्रजनन अंग को भी स्वस्थ रखने में भी मदद करती है। बिछिया महिलाओं के गर्भाधान में भी सहायक होती है।