यहां इस दिन पान खाकर किया जाता है प्रेम का इजहार - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

यहां इस दिन पान खाकर किया जाता है प्रेम का इजहार

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
भारत एक ऐसा देश हैं जहां कई रीती-रिवाज विद्यमान हैं, जिसमें से कई तो ऐसे विचित्र हैं जिनको सुनकर अचंभा होता हैं। ऐसी ही एक रीति हैं जो मध्य प्रदेश के एक गांव में होली के दिन की जाती हैं। पूरे भारत में जहाँ होली पर रंगों का त्योंहार मनाया जाता हैं, वहीँ इस गाँव में प्यार का त्योंहार मनाया जाता हैं। होली के दिन यहाँ प्यार का इजहार कर अपने मनपसंद हमसफ़र कि तलाश को पूरा किया जाता हैं। तो आइये जानते हैं इस गाँव की पूरी जानकारी के बारे में।
मध्य प्रदेश के इस गांव में प्रेम का इजहार करने का अनोखा तरीका है। जहां युवा अपने मनपसंद हमसफर की तलाश करते हैं। वे उन्हें पान खिलाकर प्रेम का इजहार करते हैं और लड़कियों को लेकर भाग जाते हैं। आपको बता दें कि निमाड़ में फेमस भगोरिया मेला शुरू हो गया है। यह भील और भिलाला आदिवासियों की प्रेम और शादी से जुड़ा पारंपरिक मेला है। 
बताया जा रहा है कि ये मेला निमाड़ इलाके के झाबुआ, धार, बडवानी और अलिराजपुर में होली के मौके पर भगोरिया पर्व मनाया जाता है। ये होली से एक हफ्ते पहले शुरू होता है। होली से पहले शुरू होकर मेला होली के दिन ही समाप्त हो जाता है। आदिवासी साल भर इस मेले का इंतज़ार करते हैं।
आपको बता दें कि मेले में ढोल-मांदल की थाप पर सज-धजकर युवा आते हैं। आदिवासी युवतियां भी रंग-बिरंगे कपड़ों में सजकर पहुंचती हैं। युवा अपने मनपसंद हमसफर की तलाश करते हैं। तलाश पूरी होने पर वे लड़की को पान खिलाते हैं। फिर लड़का और लड़की मेले से भाग जाते हैं। खास बात तो यह है कि भागने की वजह से ही इसे 'भगोरिया पर्व' कहा जाता है। इसके कुछ दिनों बाद आदिवासी समाज उन्हें पति-पत्नी का दर्जा दे देता है। बताया जा रहा है कि मेले में युवकों की अलग-अलग टोलियां सुबह से ही बांसुरी-ढोल-मांदल बजाते घूमते हैं। आदिवासी लड़कियां हाथों में टैटू बनवाती हैं। हालांकि, वक्त के साथ मेले का रंग-ढंग बदल गया है। मेले में गुजरात और राजस्थान के ग्रामीण भी पहुंचते हैं। हफ्तेभर काफी भीड़ रहती है।