126 की जगह 36 विमान खरीदे जाने से हुआ फायदा, 1 महीने पहले होगी डिलीवरी : CAG - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

126 की जगह 36 विमान खरीदे जाने से हुआ फायदा, 1 महीने पहले होगी डिलीवरी : CAG

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर http://bit.ly/2EG1SuE
Rafale Deal पर बहुप्रतिक्षित भारत के नियन्त्रक एवं महालेखापरीक्षक (CAG) की रिपोर्ट राज्यसभा में पेश हो गयी. यह रिपोर्ट सरकार और विपक्ष दोनों के लिए मिला जुला है. दोनों Rafale डील को लेकर एक दूसरे पर लगातार आरोप प्रत्यारोप कर रहे हैं.

Rafale पर CAG की रिपोर्ट में कहा गया है कि NDA सरकार ने UPA से 2.86 फीसदी सस्ते में डील की है. रिपोर्ट में दावा कहा गया है कि मौजूदा डील में विमानों की डिलिवरी पुराने डील के मुकाबले एक महीने पहले होगी. साल 2007 में की गयी डील के अनुसार भारत की जरूरतों के मुताबिक तैयार विमान 72 महीने में भारत आते जबकि साल 2016 में जो डील की गयी उसके मुताबिक ये विमान 71 महीने में ही तैयार हो जायेंगे.

यह भी पढ़ें:  नार्वे के इस Youtuber ने बाल काटने के लिए नाई को दे दिया 28,000 रुपये


इस डील को लेकर सरकार की जो सबसे ज्यादा आलोचना की जा रही थी वह यह थी कि विमानों की संख्या 126 से घटकर 36 हो गयी. इस पर सरकार ने कहा था कि उसने भारतीय वायुसेना की 'अविलंब' जररूतों को ध्यान में रखते हुये ऐसा किया है. इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट में 36 राफेल जेट्स खरीदने पर दिये गये जवाब में सरकार ने जरूरत का हवाला दिया था.

यह भी पढ़ें:   मोदी सरकार ने UPA से सस्ते में खरीदे 36 राफेल विमान, जानिए CAG रिपोर्ट की बड़ी बातें

हालांकि CAG की रिपोर्ट में कहा गया है कि सौदे के इस पहलू को बदलने से डिलीवरी टाइम के संदर्भ में थोड़ा लाभ मिला है. रिपोर्ट में कहा गया है कि साल 2007 में दसॉ द्वारा पेश किए गए शेड्यूलिंग के अनुसार पहले 18 उड़ने वाले विमानों को अनुबंध पर हस्ताक्षर करने के 37 महीने से 50 महीने के बीच दिया जाना था और अगले 18 को, एचएएल में बनना था जो 49 से 72 महीने के भीतर मिलता.

यह भी पढ़ें: भारत को मिलने वाले हैं 54 HAROP ड्रोन, ताकत ऐसी की 1000 किमी. तक कांपेंगे दुश्‍मन

Loading...


नए सौदे में भारतीय निगोशिएशन टीम (INT) ने फ्रांसीसी पक्ष को बताया कि उसने IGA के हस्ताक्षर के बाद 24 महीनों में 18 राफेल विमानों के पहले बैच की डिलीवरी की उम्मीद की थी; और 36 महीनों में 18 विमानों का अगला बैच चाहिये था.

कैग ने रिपोर्ट में कहा, 'आखिरकार, फ्रांस की तरफ से डिलीवरी का शेड्यूल आईजीए के हस्ताक्षर के 36 से 53 महीने बाद 18 विमान था, और शेष 18 विमानों को आईजीए पर हस्ताक्षर करने के 67 महीने बाद देने की बात कही थी.'

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स