Ranji Trophy: विदर्भ लगातार दूसरी बार बना रणजी ट्रॉफी चैंपियन, 11 विकेट लेने वाला ये खिलाड़ी रहा हीरो - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

Ranji Trophy: विदर्भ लगातार दूसरी बार बना रणजी ट्रॉफी चैंपियन, 11 विकेट लेने वाला ये खिलाड़ी रहा हीरो

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर http://bit.ly/2EG1SuE
Ranji Trophy: विदर्भ लगातार दूसरी बार बना रणजी ट्रॉफी चैंपियन, 11 विकेट लेने वाला ये खिलाड़ी रहा हीरो
विदर्भ लगातार दूसरी बार बनी रणजी ट्रॉफी चैंपियन
Ajay Raj | News18Hindi
Updated: February 7, 2019, 3:42 PM IST
आदित्य सरवाटे (6/59) और अक्षय वाखरे (3/37) के दम पर विदर्भ ने लगातार दूसरी बार रणजी ट्रॉफी का खिताब अपने नाम कर लिया है. विदर्भ क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले गए इस मैच में विदर्भ ने सौराष्ट्र के सामने जीत के लिए 206 रनों का लक्ष्य रखा था, लेकिन वह 127 रन पर ढेर होकर मैच 78 रन से गंवा बैठी. इसके साथ ही सौराष्‍ट्र का तीसरी बार भी रणजी चैंपियन बनने का ख्‍वाब टूट गया है.  जबकि विदर्भ के कप्‍तान फज़ल फैजल लगातार दो बार खिताब जीतने वाले रणजी ट्रॉफी इतिहास के 11वें कप्‍तान बन गए हैं. बापू नादकर्णी ने मुंबई के लिए लगातार तीन बार खिताब जीता है, जो कि रिकॉर्ड है.

इससे पहले विदर्भ ने पहली पारी में 312 तो सौराष्ट्र ने अपनी पहली पारी में 307 रन का स्कोर बनाया था.जबकि विदर्भ की दूसरी पारी धर्मेंद्रसिंह जडेजा( 6/96) के सामने सिर्फ 200 रन पर सिमट गई थी. मेजबान विदर्भ के लिए दूसरी पारी में सर्वोच्‍च स्‍कोर आदित्‍य सरवटे ने 49 रन के रूप में बनाया था, जो कि सौराष्‍ट्र टीम की हार की असली वजह है.

मेजबान विदर्भ से मिले 206 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी सौराष्ट्र की टीम अपनी दूसरी पारी में नियमित अंतराल पर विकेट गंवाते चली गई. टीम ने 22 रन के स्कोर पर ही अपने तीन विकेट गंवा दिए. सरवाटे ने तीनों विकेट अपने नाम किए. इन तीन विकेट में हार्विक देसाई (8), स्नेल पटेल (12) और अनुभवी बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (0) भी शामिल थे.


Loading...


इसके बाद सौराष्‍ट्र ने 34 के स्कोर पर अर्पित वासवादे (5) और 55 के स्कोर पर शेल्डन जैकसन (7) का भी विकेट गंवा दिया. जबकि चौथे दिन का खेल खत्‍म होने के समय विश्वराज जडेजा 23 और कमलेश माकवाना दो रन बनाकर नाबाद थे. जीत के लिए 206 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए सौराष्ट्र ने चौथे दिन अपने 5 विकेट 58 रन पर गंवा दिए थे. वहीं उसे पांचवें दिन जीत के लिए 148 रन की दरकार थी, लेकिन वह इस स्‍कोर को नहीं बना सकी.

पांचवें दिन के पहले बल्‍लेबाज़ के रूप में मकवाना (14) आउट हुए उन्‍हें आदित्य सरवाटे ने अपना शिकार बनाया. इसके बाद पीएन मांकड़ (2) को वाखरे तो विश्वराज जडेजा (52) को सरवाटे ने पवेलियन लौटाकर सौराष्‍ट्र की उम्‍मीदों को करारा झटका दिया. जबकि जयदेव उनादकत (7) और धमेंद्रसिंह जडेजा (17) भी जल्‍दी पवेलियन लौट गए और विदर्भ ने लगातार दूसरी बार रणजी का खिताब अपने नाम कर लिया.

सरवाटे और वघारे के अलावा उमेश यादव को एक विकेट मिला. जबकि मैच में 11 विकेट लेने वाले लेफ्ट आर्म स्पिनर आदित्य सरवाटे (पहली पारी में पांच और दूसरी पारी में छह) को मैन ऑफ द मैच चुना गया है.

Loading...

और भी देखें

Updated: February 04, 2019 12:25 PM ISTExclusive: मुनाफ पटेल ने कहा- हार्दिक पांड्या ने टीम इंडिया की सबसे बड़ी कमी पूरी की