डॉक्टरों की हड़ताल: आईसीयू, इमरजेंसी सर्विस जारी, लेकिन... - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

डॉक्टरों की हड़ताल: आईसीयू, इमरजेंसी सर्विस जारी, लेकिन...

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर http://bit.ly/2EG1SuE
डॉक्टरों की हड़ताल: आईसीयू, इमरजेंसी सर्विस जारी, रूटीन के काम बंद, बेहाल मरीज!
पश्चिम बंगाल में डाॅक्टर की पिटाई के विरोध में हड़ताल
News18Hindi
Updated: June 14, 2019, 9:58 AM IST
जूनियर डॉक्टरों के साथ पश्चिम बंगाल में मारपीट के बाद शुरू हुए आंदोलन की आंच अब दिल्ली भी पहुंच गई है. यहां के कई बड़े सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर हड़ताल पर चले गए हैं. जिससे मरीजों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. दिल्ली के करीब 11 हजार रेजीडेंट डॉक्टरों ने कामकाज ठप किया हुआ है, लेकिन इमरजेंसी सर्विस जारी है, आईसीयू चल रहे हैं. सीनियर डॉक्टर अपना कामकाज जारी रखे हुए हैं, ताकि ज्यादा परेशान मरीजों को ईलाज मिल सके. इसके अलावा मेडिकल स्टोर्स पर कोई असर नहीं है. दवाईयां मिल रही हैं. इसलिए इस हड़ताल से ज्यादा इमरजेंसी वाले मरीजों को घबराने की जरूरत नहीं है.

हालांकि, दूर दराज से अप्वाइंटमेंट लेकर ओपीडी में ईलाज करवाने आने वाले मरीज परेशान हैं, क्योंकि ज्यादातर ओपीडी रेजीडेंट डॉक्टरों के भरोसे ही चलती है. जूनियर डॉक्टरों के असहयोग की वजह से अकेले एम्स में 632 सर्जरी कैंसिल कर देनी पड़ी है. सिर्फ इमरजेंसी सर्जरी ही जारी है. एम्स में सर्जरी की तारीख मिलना बहुत कठिन काम है. ऐसे में जिनकी सर्जरी डेट मिलने के बाद भी रद्द हो गई उनके लिए फिर से परेशानी खड़ी हो गई है. उन्हें फिर से ऑपरेशन की नई तारीख लेने के लिए भटकना पड़ेगा. यदि आपने इन अस्पतालों में ओपीडी के लिए अप्वाइंटमेंट ले रखा है तो पता करके ही घर से निकलें कि हड़ताल खत्म हो गई है या नहीं.

फेडरेशन ऑफ रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन से जुड़े डॉ. प्रकाश ठाकुर ने कहा कि हम नहीं चाहते कि कोई मरीज परेशान हो लेकिन हम बंगाल के रेजीडेंट डॉक्टरों के साथ खड़े हैं. जब तक बंगाल के डॉक्टरों के साथ न्याय नहीं होता हम उनके साथ हैं. ममता बनर्जी जब तक माफी नहीं मांगेंगी तब तक हम हड़ताल खत्म नहीं करेंगे. एम्स, सफदरजंग, मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज, आरएमएल सहित सभी सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर इसी समर्थन में हड़ताल पर हैं. ज्यादा गंभीर मरीजों को सेवाएं मिल रही हैं. इन अस्पतालों में एक तरफ मरीज भटक रहे हैं तो दूसरी ओर रेजीडेंट डॉक्टर अपना कामकाज रोक कर नारेबाजी कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

'किसानों की आय दोगुनी से भी ज्यादा कर देंगे'

पश्चिम बंगाल और दिल्ली सरकार ने रोका किसानों का पैसा!

Loading...