दिग्गी के लिए मिर्ची हवन करने वाले बाबा समाधि लेने को तैयार - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

दिग्गी के लिए मिर्ची हवन करने वाले बाबा समाधि लेने को तैयार

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर http://bit.ly/2EG1SuE
'दिग्गी' के लिए मिर्ची हवन करने वाले बाबा जल समाधि लेने को तैयार, कलेक्टर से मांगी इजाजत
बाबा बैराग्यानंद (फाइल फोटो)
Jitender Sharma | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 14, 2019, 9:40 AM IST
भोपाल लोकसभा सीट से दिग्विजय सिंह की जीत का दावा और हार के बाद जिंदा समाधि लेने की बात करने वाले वाले पूर्व महामंडलेश्वर, बाबा वैराग्यानंद गिरी ने समाधि लेने की अनुमति मांगी है. उन्होंने भोपाल जिला अधिकारी को एक पत्र लिखकर कहा है कि वे अभी कामाख्यमंदिर (गुहावटी) में तपस्यारत हैं और वे 16 जून को दोपहर 2 बजकर 11 मिनिट पर जल समाधि लेना चाहते हैं. बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान बाबा वैराज्ञानंद गिरी ने कहा था कि अगर दिग्विजय सिंह भोपाल से चुनाव नहीं जीते तो वे समाधि ले लेंग. चुनाव परिणाम आने के वाद दिग्विजय सिंह बीजेपी प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा से हार गए. जिसके बाद बाबा अचानक गायब हो गए थे.

ये है पूरा मामला-

दरअसल, स्वामी वैराग्यानंद उर्फ मिर्ची बाबा ने मिर्ची हवन कर कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता और भोपाल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने वाले दिग्विजय सिंह की जीत का दावा किया था. उन्होंने कहा था कि मिर्ची हवन करने से दिग्विजय सिंह की जीत सुनिश्चित होगी. इस हवन में कुल 5 क्विंटल मिर्च डाली गई थी. साथ ही यह संकल्प भी लिया था कि अगर दिग्विजय सिंह नहीं जीते, तो वो जिंदा जल समाधि ले लेंगे. वैरागानंद के कई आश्रम गुजरात और मध्य प्रदेश में हैं. स्वामी वैराग्यानंद को दिग्विजय सिंह का करीबी बताया जाता है.

अखाड़े ने दिखाया था बाहर का रास्ता-

वहीं, मीर्ची हवन के दौरान ही विवाद बढ़ता देख निरंजनी अखाड़े ने वैराग्यानंद को निष्कासित कर दिया था. वैराग्यानंद पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी के महामंडलेश्वर थे. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा था कि स्वामी वैराग्यानंद का कार्य गलत था. उनका आचरण साधु-संतों की मर्यादा के खिलाफ था.

परिणाम आने के बाद हुए गायब-

लोकसभा चुनाव परिणाम आने के बाद दिग्विजय सिंह को भोपाल करारी हार मिली. नतीजा आने के बाद लोग लगातार वैराग्यानंद की तलाश कर रहे थे, लेकिन, बाबा से किसी का संपर्क नहीं हो पा रहा था. कई लोगों ने वैराग्यानंद का मोबाइल नंबर तक ढूंढ लिया और लोग उन्हें फोन कर पूछने लगे कि बाबाजी अब समाधि कब लेंगे. लेकिन बाबा भोपाल से गायब हो गए थे.

Loading...


ये भी पढे़ं- अंनतनाग आतंकी हमला: शहीद संदीप यादव को राजकीय सम्मान के साथ आज दी जाएगी अंतिम बिदाई

ये भी पढे़ं-इंदौर : नगर निगम की बजट बैठक में कांग्रेस पार्षद का हंगामा, जमकर चले लात-घूसे

Loading...