Man vs Wild: कार्यक्रम में PM मोदी ने कही ये 10 बड़ी बातें - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

Man vs Wild: कार्यक्रम में PM मोदी ने कही ये 10 बड़ी बातें

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी डिस्कवरी चैनल के चर्चित शो में से एक 'मैन वर्सेज वाइल्ड' (Man vs Wild) में खास मेहमान बनकर शरीक हुए. उत्तराखंड के जिम कार्बेट में शूट किए गए इस कार्यक्रम में पीएम मोदी (PM Modi) और 'मैन वर्सेज वाइल्ड' के होस्ट बेयर ग्रिल्स (Bear Grylls) ने कई चीजों पर चर्चा की. इस दौरान पीएम मोदी ने बेयर ग्रिल्स को अपने जीवन जुड़ी कई बातें बताई. कार्यक्रम ने पीएम मोदी ने क्या-क्या खास कहा, चलिए आपको बताते हैं.

प्रकृति से संघर्ष खतरनाक
कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री मोदी और बेयर ग्रिल्स के बीच प्रकृति को लेकर बातचीत हुई. जब बेयर ग्रिल्स ने जिम कार्बेट ((Jim Corbett) को खतरनाक कहा तो पीएम ने कहा कि अगर हम प्रकृति (Nature) से संघर्ष करते हैं तो यह प्रकृति के साथ सबके लिए खतरनाक होता है, लेकिन हम प्रकृति से संतुलन बना लेते हैं तो वह भी हमारी मदद करती है.

कपड़े धोने के लिए नहीं होता था साबुन

कार्यक्रम के दौरान बेयर ग्रिल्स ने पीएम नरेंद्र मोदी से जानना चाहा कि उनका बचपन किस तरह बीता था? इस पर प्रधानमंत्री ने कहा कि उनका बचपन बड़ी गरीबी में बीता. वह गुजरात में अपने परिवार के साथ रहते थे. पीएम मोदी ने बताया कि गरीब परिवार से ताल्लुक रखने के कारण उनके पास नहाने और कपड़े धोने के साबुन के भी पैसे नहीं होते थे. ऐसे में वह ओस की सुखी हुई पर्त का उपयोग नहाने और कपड़े धुलने के लिए करते थे. बेयर ग्रिल्स ने पूछा कि किस तरह वह नहाने के लिए इसका इस्तेमाल करते थे. इस पर प्रधानमंत्री ने कहा कि वह उन परतों को पानी में गर्म करके उसका इस्तेमाल नहाने के लिए करते थे.

बचपन से ही साफ-सुथरा रहना पसंद

Loading...


प्रधानमंत्री मोदी को उनके कपड़ों और फैशन (Fashion) के लिए भी जाना जाता है. 'मैन वर्सेज वाइल्ड' के दौरान बेयर ग्रिल्स ने पीएम मोदी से पूछा कि वह खुद को इतना मेंटेन किस तरह करते हैं. इस पर पीएम ने कहा कि बचपन से ही उन्हें साफ-सुथरा रहना पसंद है. पीएम मोदी ने बताया कि वह बचपन में गर्म कोयले को एक तांबे के बर्तन में रख लेते थे और इसी से अपने कपड़े इस्त्री करते थे.

रेलवे से खास कनेक्शन
शो के दौरान प्रधानमंत्री के रेलवे स्टेशन (Railway Station) पर चाय बेचने का भी जिक्र आया. पीएम मोदी ने कहा कि उनके पिता रेलवे स्टेशन पर चाय बेचते थे. वह स्कूल से आकर अपने पिता की मदद किया करते थे. इस पर बेयर ग्रिल्स ने कहा कि आपके लिए रेलवे स्टेशन काफी खास होगा, जिसका जवाब पीएम मोदी ने हां में दिया.

किसी को मारना मेरे संस्कार में नहीं
जंगल में सफर के दौरान बेयर ग्रिल्स एक लकड़ी और चाकू की मदद से सुरक्षा के लिए एक हथियार तैयार करके पीएम मोदी को देते हैं. इस पर मोदी ने कहा कि किसी को मारना मेरे संस्कार में नहीं है, लेकिन आपकी सुरक्षा के लिए मैं इसे अपने पास रख लेता हूं. पीएम मोदी ने इससे पहले ये भी कहा कि ईश्वर पर भरोसा करें, वह सबकी मदद करते हैं.

18 साल में ली पहली छुट्टी
बेयर ग्रिल्स के साथ शो को प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले 18 सालों में अपनी पहली छुट्टी बताया. बेयर ग्रिल्स ने पीएम मोदी से सवाल पूछा कि उनके मन में पहली बार प्रधानमंत्री बनने का ख्याल कब आया. इस पर मोदी ने कहा कि वे करीब 13 साल एक राज्य के सीएम रहे. इसके बाद देश की जनता ने पीएम बना दिया. पीएम मोदी ने कहा कि उन्होंने हमेशा विकास पर ध्यान दिया. अगर इसे (शो को) वेकेशन कहें तो 18 साल में यह उनका पहला वेकेशन है.

पिताजी चिट्ठी लिखकर देते थे बारिश की सूचना
कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा कि हमें प्रकृति के प्रति उत्साहित रहना चाहिए. उन्होंने बताया कि जब मैं छोटा था तो हमारी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी. जब भी बारिश होती थी तो पिताजी 25-30 पोस्टकार्ड लेकर आते और सभी रिश्तेदारों को बारिश होने की खबर देते थे. हमें लगता कि इस बेवजह खर्चे की क्या जरूरत है, लेकिन अब अहसास होता है कि जब वे रिश्तेदारों को बताते थे कि हमारे गांव में बारिश हो गई है तो उनके चेहरे पर संतोष होता था.

ये भी पढ़ें: पीएम मोदी ने तोड़ा 100 साल का रिकॉर्ड, बेयर ग्रिल्स ने कहा- आज तक कोई नहीं कर पाया ऐसा

भूखे मर जाएंगे लेकिन लकड़ी नहीं बेचेंगे
'मैन वर्सेज वाइल्ड' में पीएम मोदी ने बताया कि कैसे उन्हें अपने परिवार से प्रकृति से प्रेम करने की सीख मिली. उन्होंने अपनी दादी से जुड़ा एक किस्सा बताते हुए कहा कि मेरी दादी जी पढ़ी-लिखी नहीं थी. मेरे चाचा ने लकड़ी का व्यापार करने का मन बनाया. इस पर मेरी दादी बहुत नाराज हुई. जब दादी से इसका कारण पूछा तो उन्होंने कहा कि भूखे मर जाएंगे, लेकिन लकड़ी बेचने का काम नहीं करेंगे. मेरी दादी का मानना था कि लकड़ी में भी जीवन है. पेड़ काटकर परिवार चलाना ठीक नहीं.

पीएम ने किया तुलसी विवाह का जिक्र
कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी और बेयर ग्रिल्स के बीच प्रकृति को लेकर काफी बातें हुई. इस दौरान बेयर ग्रिल्स ने नीम का जिक्र किया और इसे पेट के लिए काफी लाभदायक बताया. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश में हर पौधे को भगवान माना जाता है. यहां तुलसी विवाह की परंपरा है. तुलसी विवाह में भगवान के साथ तुलसी की शादी करते हैं.

पीएम मोदी ने दुनिया के दिया ये संदेश
बेयर ग्रिल्स ने पीएम मोदी से पूछा कि अगर आप दुनिया को कोई संदेश देना चाहेंगे तो वह क्या होगा? इस पर पीएम मोदी ने कहा कि प्रकृति से कुछ भी लेते हैं तो सोचें कि 50 साल बाद जो बच्चा होगा वो पूछेगा कि मेरे हक की हवा क्यों खराब कर रहे हो. मैं शाकाहारी हूं, प्राणी के लिए प्रकृति का महत्व मुझे पता है.

ये भी पढ़ें: Man vs Wild: जब मगरमच्छ लेकर घर पहुंच गए थे PM मोदी तो ये बोलीं उनकी मां