SBI में है खाता तो ध्यान दें, आज से बदल गए हैं ये 5 नियम - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

SBI में है खाता तो ध्यान दें, आज से बदल गए हैं ये 5 नियम

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
नई दिल्ली. देश के सबसे बड़े बैंक यानी भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India) ने आज से डिपॉजिट (Cash Deposits) पर लगने वाले सर्विस चार्जे (Service Charge) में कई बदलाव कर दिये हैं. SBI द्वारा आज नकदी निकासी, औसत मासिक बैलेंस (Average Minimum Balance) और डिपॉजिट से जुड़ें नियमों में आज से बदल जाएंगे. ऐसे में यदि आपके पास भी एसबीआई का खाता है तो आपको इन नियमों के बारे में जरूर जान लेना चाहिए. तो आइए जानते हैं कि एसबीआई सविर्स चार्जेज से जुड़े नियमों में क्या बदलाव हुए हैं.

1. औसतन मासिक बैलेंस: आज से यानी 1 अक्टूबर से SBI ने शहरी क्षेत्रों के खाताधारकों को औसतन मासिक बैलेंस की सीमा 5,000 रुपये से घटाकर 3,000 रुपये कर दिया है. अगर कोई ग्राहक अपने खाते में औसतन 3,000 रुपये नहीं रखता है तो इसके लिए चार्जे देना होगा.

ये भी पढ़ें: फ्लिपकार्ट Big Biliion Day Sale पर आपके शॉनदार ऑफर्स के पीछे है इन ​महिलाओं का है हाथ



भारतीय स्टेट बैंक

>> औसत मासिक बैलेंस से 50 फीसदी यानी 1,500 रुपये से कम रकम होने पर 10 रुपये + जीएसटी चार्ज के रूप में देना होगा. य​दि खाताधारक के खाते में औसत बैलेंस से 75 फीसदी कम रकम है तो इसके लिए उन्हें 15 रुपये + जीएसटी चार्ज के रूप में देना होगा.


Loading...


>> अर्ध शहरी क्षेत्रों में औसतन मासिक बैलेंस 2,000 रुपये है. अगर खाताधारक अपने खाते में औसनत मासिक बैलेंस से 50 फीसदी कम बैलेंस रखते हैं तो इसके लिए उन्हें 7.50 रुपये + जीएसटी के रूप में चार्ज में देना होगा. इसी प्रकार में 50 से 75 फीसदी तक रकम रखने पर 10 रुपये + जीएसटी और 75 फीसदी से कम रकम रखने पर 12 रुपये + जीएसटी चार्जेबल होगा.

>> वहीं, ग्रामीण क्षेत्रों में न्यूनतम औसत बैलेंस 1,000 रुपये होना चाहिए. अगर खाताधारक अपने खाते में औसनत मासिक बैलेंस से 50 फीसदी कम बैलेंस रखते हैं तो इसके लिए उन्हें 5 रुपये + जीएसटी के रूप में चार्ज में देना होगा. इसी प्रकार में 50 से 75 फीसदी तक रकम रखने पर 7.5 रुपये + जीएसटी और 75 फीसदी से कम रकम रखने पर 10 रुपये + जीएसटी चार्जेबल होगा.

ये भी पढ़ें: अक्टूबर और दिसंबर माह में आप पर घट सकती है EMI की बोझ, गौल्डमैन सैक्स ने बताई वजह

 2. NEFT औार RTGS चार्ज: ग्राहकों के लिए नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर (एनईएफटी) या रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (आरटीजीएस) चार्जेज फ्री है, लेकिन शाखाओं को इसके लिए चार्ज देना होता है. 10 हजार रुपये तक के एनईएफटी ट्रांजैक्शन पर 2 रुपये और जीएसटी चार्जेबल होगा. इसके अलावा एनईएफटी के जरिए 2 लाख रुपये तक के ट्रांजैक्शन पर 20 रुपये और जीएसटी अतिरिक्त शुल्क के रूप में देय होगा.


>> आरटीजीएस के जरिए 2 लाख रुपये से लेकर 5 लाख रुपये तक के ट्रांसफर पर ग्राहकों को 20 रुपये और जीएसटी देना होगा. 5 लाख रुपये से अधिक ट्रांसफर करने पर यह रकम जीएसटी के साथ 40 रुपये हो जाएगी.
एनईएफटी औार आरटीजीएस चार्ज

3. डिपॉजिट और विड्रॉल: SBI के खाताधारकों के लिए एक माह में 3 बार अपने सेविंग अकाउंट में कैश डिपॉजिट (Cash Deposit) करने पर कोई चार्ज नहीं देना होगा. इसके बाद प्रत्येक डिपॉजिट पर 50 रुपये + जीएसटी अतिरिक्त शुल्क के रूप में देना होगा.

ये भी पढ़ें: PMC Bank पर RBI का बड़ा फैसला, ग्राहकों की शिकायतों के लिए उठाया यह कदम


4. इसके साथ ही एसबीआई ने यह भी जानकारी दी है कि नॉन-होम ब्रांच के जरिए अपने खाते में 2 लाख रुपये तक जमा कर सकते हैं. इसके बाद ब्रांच मैनेजर (Branch Manager) यह फैसला लेगा कि आप इससे अधिक रकम जमा कर सकते हैं या नहीं.

5. एसबीआई ने यह भी जानकारी दी है कि 25,000 रुपये की औसतन मासिक बैलेंस मेंटेन करने वालो खाताधारकों को एक माह में दो बार फ्री कैश विड्रॉ (Free Cash Withdrawal) करने की अनुमति होगी. वहीं, 25 हजार रुपये से लेकर 50 हजार रुपये औसत मासिक बैलेंस मेंटेन करने वालों को 10 बार फ्री में कैश विड्रॉ करने का मौका मिलेगा. अगर आप पहले से तय लिमिट से अधिक बार कैश विड्रॉ करते हैं तो इसके लिए खाताधारक को 50 रुपये और जीएसटी देना होगा.