प्रेरणादायी: कल्पना 22 वर्षों से प्लास्टिक कचरों से बना रही हैं सजावटी सामान - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

प्रेरणादायी: कल्पना 22 वर्षों से प्लास्टिक कचरों से बना रही हैं सजावटी सामान

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
प्रेरणादायी: कल्पना ठाकुर 22 वर्षों से प्लास्टिक कचरों से बना रही हैं सजावटी सामान
कल्पना ठाकुर प्लास्टिक के कचरे से घर सजाने का सामान बनाती हैं और लोगों को प्रेरणा देती हैं.

कल्पना को प्लास्टिक के दुष्प्रभावों के बारे में पता लगा तो उसने कचरों से सजावटी सामान बनाने की मुहिम शुरू कर दी.

  • Share this:
मनाली. पर्यावरण प्रदूषण में प्लास्टिक के कचने का बहुत ज्यादा योगदान है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) स्वच्छता अभियान (Swacchta Abhiyan) के तहत सिंगल यूज प्लास्टिक (Single Use Plastic) को भी बैन करने की बात कह रहे हैं. हिमाचल सरकार भी इस दिशा में सख्ती से कदम उठा रही है. हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले के मनाली की रहने वाली कल्पना ठाकुर (Kalpana Thakur) ने अपने तरीके से प्लास्टिक को ठिकाने का नया तरीका ढूंढ निकाला है और यह काफी हद तक कामयाब रहा है. कल्पना ठाकुर ने यह मुहिम आज से नहीं, बल्कि 22 वर्ष पहले शुरू की है.

कौन हैं कल्पना ठाकुर 

कल्पना ठाकुर लाहौल स्पीति जिले के चौंखग गांव की रहने वाली है, लेकिन पिछले कई वर्षों से वह अपने परिवार संग मनाली में ही अपने घर में रहती हैं. कल्पना ठाकुर ने ना केवल प्लास्टिक के कचरे को फिर से प्रयोग में लाकर इस कचरे से खूबसूरत कलाकृतियां तैयार की हैं बल्कि वह इसके दोबारा उपयोग के बारे में लोगों को भी जागरूक कर रही हैं. कल्पना ठाकुर द्वारा चलाई जा रही इस मुहिम की आज हर कोई प्रंशसा कर रहा है.



कई संस्थाओं ने कल्पना को किया सम्मानित

कल्पना ठाकुर को अब तक कई संस्थाओं द्वारा भी सम्मानित किया गया है. कल्पना ठाकुर ने न्यूज 18 हिमाचल से अपने विचार साझा करते हुए बताया कि वह लगभग 22 वर्ष से प्लास्टिक कचरे से कई तरह का सजावटी सामान बनाती आई हैं. उन्होंने बताया कि वह अपने आसपास पड़े प्लास्टिक के कचरे को इकट्ठा करती हैं. वह इनसे घर सजाने के लिए कई तरह की चीजें बनाती हैं.

मनाली में प्लास्टिक की थैलियों पर जब बैन लगा तब...

Loading...


कल्पना ने कहा कि वह पहले काफी प्लास्टिक का प्रयोग करती थी, लेकिन एक बार मनाली में प्लास्टिक से बने लिफाफों पर प्रतिबंध लग गया. इसके बाद मुझे ही नहीं सभी को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. उन्हें प्लास्टिक के दुष्प्रभावों के बारे में जब पता लगा तो उन्होने इसका प्रयोग कम करना आरम्भ किया और पुराने प्लास्टिक के कचरे को ही दोबारा प्रयोग में लाकर कई तरह की कलाकृतियां बनानी आरम्भ की जो आज भी लोगों को काफी पंसद आती हैं.
Kalpana Thakur
कल्पना ठाकुर को उनके पर्यावरण संरक्षण के ​इस काम के लिए कई संस्थाएं सम्मानित कर चुकी हैं.

'प्लास्टिक फेंकने से पहले एक बार पर्यावरण की चिंता जरूर करें'

उन्होने कहा कि आज सरकार द्वारा भी सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ अभियान छेड़ा गया है, जो काफी सराहनीय है. कल्पना ठाकुर ने आम जनता से भी अपील की है कि प्लास्टिक की चीजों का उपयोग कम से कम करें और यदि करना भी पड़ रहा है तो उसे फेंकने से पहले एक बार पर्यावरण के स्वास्थ्य के बारे में अवश्य सोचें.

यह भी पढ़ें: नेपाल से 2022-23 में भारत आएगी बिजली, हिमाचल, बिहार व अन्य राज्यों को होगा लाभ

दीवाली पर जयराम सरकार ने दिया 20 इलेक्ट्रिक बसों का तोहफा, लगे हैं सात कैमरे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनाली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 26, 2019, 6:24 AM IST

Loading...