फेसबुक ने किया चेहरा पहचानने की तकनीक का दुरुपयोग! 25 खरब जुर्माने का केस दर्ज - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

फेसबुक ने किया चेहरा पहचानने की तकनीक का दुरुपयोग! 25 खरब जुर्माने का केस दर्ज

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
फेसबुक ने किया चेहरा पहचानने की तकनीक का दुरुपयोग! देना पड़ सकता है 25 खरब का जुर्माना
फेसबुक

फेसबुक (Facebook) पर दर्ज हुए मुकदमे में आरोप लगाया गया है कि इलिनोइ के नागरिकों ने अपलोड किए गए अपने फोटो के फेशियल रिकग्निशन संबंधित स्कैन करने की अनुमति नहीं दी

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 20, 2019, 10:42 AM IST
  • Share this:
अमेरिका की एक अदालत ने फेसबुक (facebook) की उस याचिका को खारिज कर दिया है, जिसमें उस पर डेटा के कथित दुरुपयोग के खिलाफ 3500 करोड़ डॉलर जुर्माने का मुकदमा दायर किया गया था. दरअसल फेसबुक द्वारा इलिनोइ (illinios) के लोगों के फेशियल रिकग्निशन (चेहरा पहचानना) संबंधी डेटा के कथित दुरुपयोग की बात सामने आई थी. टेकक्रंच की रिपोर्ट के मुताबिक, सैन फ्रांसिस्को में नौ सर्किट वाले न्यायाधीशों की तीन न्यायाधीशीय पैनल ने फेसबुक की याचिका को खारिज कर दिया है. अब मामले की सुनवाई तभी होगी, जब सुप्रीम कोर्ट हस्तक्षेप करेगा.

रिपोर्ट में कहा गया कि मुकदमे में आरोप लगाया गया है कि इलिनोइ के नागरिकों ने अपलोड किए गए अपने फोटो के फेशियल रिकग्निशन संबंधित स्कैन करने की अनुमति नहीं दी और ना ही उन्हें इस बात की जानकारी दी गई थी कि 2011 में मैपिंग शुरू होने पर डेटा कितनी देर तक सुरक्षित रहेगा.

फेसबुक को 70 लाख लोगों के हिसाब से प्रतिव्यक्ति 1000 से 5000 डॉलर जुर्माने के तौर पर देना होगा, ऐसे में उस पर लगे जुर्माने की राशि 3500 करोड़ डॉलर यानी कि करीब 25 खरब तक होगी.

फेसबुक ने साल 2011 में फेशियल रिकग्निशन संबंधित स्कैन टेक्नोलॉजी का इस्तेमान शुरू किया था, जिसमें फेसबुक के यूज़र्स से पूछा जाता है कि उनके अपलोड की गई फोटो में जो लोग टैग किए गए हैं, उन्हें वह जानते हैं या नहीं.

Facebook

न्यायधीशों ने कहा कि फेशियल रिकग्निशन संबंधित स्कैन तकनीक लोगों के निजता पर हमला है. वहीं कोर्ट के कागजात के मुताबिक, फेसबुक की फेशियल रिकग्निशन टेक्नोलॉजी इलिनोइ के बायोमेट्रिक इंफरेमेशन प्राइवेसी एक्ट (बीआईपीए) का उल्लंघन करता है.

वहीं इस बारे में फेसबुक ने बयान दिया है कि फेसबुक ने हमेशा लोगों को फेस रिकग्निशन तकनीक के उपयोग के बारे में बताया है और उन्हें इसे नियंत्रित करने के बारे में भी बताया गया है. फिलहाल हम अपने पास बचे विकल्पों की समीक्षा कर रहे हैं और अपना बचाव करते रहेंगे.

Loading...


Facebook
अपनी संपत्ति को लेकर ऐसा कहते हैं Zuckerberg
फेसबुक के को-फाउंडर, चेयरमैन, CEO मार्क ज़करबर्ग  ने हाल ही में को अपने कर्मचारियों के साथ एक टाउनहॉल मीटिंग (facebook townhall meeting) की थी. इस मीटिंग में दुनिया के पांचवे सबसे अमीर शख्स ज़करबर्ग ने अपनी संपती को लेकर एक चौकाने वाली बात कही. 70 अरब डॉलर की संपत्ति के मालिक ज़करबर्ग ने कहा कि किसी के पास भी इतनी संपत्ति रखने का अधिकार नहीं होना चाहिए. उन्होंने कहा कि ‘मेरे पास कोई पैमाना नहीं है कि किसी के पास कितनी संपत्ति होनी चाहिए, लेकिन एक मुकाम पर पहुंचने के बाद किसी के पास भी इतना पैसा रखने का अधिकार नहीं होना चाहिए.’

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 20, 2019, 9:41 AM IST

Loading...