शोध में दावा- चीनी और कोरियाइयों की अपेक्षा छोटा होता है भारतीयों का मस्तिष्क - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

शोध में दावा- चीनी और कोरियाइयों की अपेक्षा छोटा होता है भारतीयों का मस्तिष्क

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
शोध में दावा- चीनी और कोरियाइयों की अपेक्षा छोटा होता है भारतीयों का मस्तिष्क
भारतीयों का मस्तिष्क चीनी और कोरियाईयों की अपेक्षा छोटा होता है. (प्रतीकात्मक फोटो)

अध्ययन (Study) में पाया गया कि भारतीयों के मस्तिष्क (Brain) का आकार काकेशियाई क्षेत्र के लोगों की तुलना में औसतन छोटा होता है. इस अध्ययन में हैदराबाद (Hyderabad) के अंतरराष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान के वैज्ञानिक भी शामिल हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिमाग( Brain) सभी के पास होता है लेकिन उसका आकार-प्रकार सभी में एक-समान नहीं होता. शोधकर्ताओं (Researchers) के एक नये अध्ययन (Study) में यह बात सामने आयी है कि भारतीयों (Indians), चीनियों (Chinese), कोरियाई (Korean) और काकेशियन लोगों का मस्तिष्क (Brain) आकार-प्रकार में एक समान नहीं होता.

अध्ययन में पाया गया कि भारतीयों के मस्तिष्क का आकार काकेशियाई क्षेत्र के लोगों की तुलना में औसतन छोटा होता है. अर्मेनिया, आजरबैजान, जार्जिया और रूस आदि देश काकेशियाई क्षेत्र में आते हैं. इस अध्ययन में हैदराबाद के अंतरराष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान के वैज्ञानिक भी शामिल हैं. बहरहाल, अध्ययन में इस बात का खुलासा नहीं किया गया है कि मस्तिष्क के आकार में भिन्नता के कारण कामकाज में किस तरह की भिन्नता हो सकती है.

अध्ययन के अनुसार मस्तिष्क मानचित्र शोधकर्ताओं को मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (एमआरआई), फंक्शनल एमआरआई या स्वस्थ एवं रुग्ण मानसिक अवस्थाओं अथवा विभिन्न व्यक्तियों के बीच मस्तिष्क तस्वीर पद्धति में तुलना करने में सहायता करता है.

शोध में इनकी रही भूमिका

न्यूरोसाइंस इंडिया पत्रिका में यह अध्ययन प्रकाशित हुआ है. वास्तव में यह अध्ययन कनाडा के एमसी गिल विश्वविद्यालय के राघव मेहता, आईआईआईटी हैदराबाद की जयंती शिवास्वामी एवं एल्फिन जे थोटूपट्टू और केरल के श्रीचित्रा तिरूनल आयुर्विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान के चंद्रशेखर केशवदास का सामूहिक प्रयास है.

अध्ययन के अनुसार कनाडा के मांट्रियाल न्यूरोलाजिकल इंस्टीट्यूट एवं इंटरनेशनल कंसार्शियम फार ब्रेन मैपिंग (आईसीबीएम) 305 युवा स्वस्थ्य काकेशियन लोगों के मस्तिष्क एमआरआई स्कैन का उपयोग करते हुए पहला डिजिटल मानव मस्तिष्क मानचित्र तैयार किया गया.

अध्ययन में यह पाया गया

Loading...


अध्ययन के लिए 50 भारतीय पुरुषों एवं 50 भारतीय महिलाओं को शामिल किया. वे सभी स्वस्थ्य थे और उनकी आयु 21-30 वर्ष के बीच थी. इन लोगों के मस्तिष्क स्कैन से भारतीय मस्तिष्क मानचित्र तैयार किया गया. अध्ययन में यह संकेत मिला कि लंबाई, चौड़ाई एवं ऊंचाई की दृष्टि से भारतीय एवं काकेशियाई मस्तिष्क में खासा अंतर पाया गया. भारतीय, चीनियों एवं कोरियाई लोगों के के मस्तिष्क मानचित्र की तुलना करने पर पाया गया कि भारतीय मस्तिष्क इन दोनों देशों मानचित्र की तुलना में लंबाई के आधार पर करीब समान है किंतु ऊंचाई एवं चौड़ाई के लिहाज से भारतीय मस्तिष्क खासा छोटा है.

ये भी पढ़ें- ब्लड कैंसर से जूझ रही लड़की एक दिन के लिए बनी पुलिस कमिश्नर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 6:25 AM IST

Loading...