प्रदूषण रोकने के लिए सरकार का प्लान, गुजरात से दिल्ली तक बनाएगी ग्रीन वॉल - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

प्रदूषण रोकने के लिए सरकार का प्लान, गुजरात से दिल्ली तक बनाएगी ग्रीन वॉल

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
नई दिल्ली. मोदी सरकार (Modi Government) ने जलवायु परिवर्तन (Climate Change) को देखते हुए पर्यावरण संरक्षण को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है. सरकार हरित क्षेत्र बढ़ाने के लिए गुजरात से दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर तक ग्रीन वॉल (Greeen Wall) बनाएगी. अफ्रीका में सेनेगल से जिबूती तक बनी ग्रीन वॉल की तरह ही 'ग्रीन वॉल ऑफ इंडिया' को विकसित किया जाएगा. ये वॉल करीब 1400 किलोमीटर लंबी और 5 किलोमीटर चौड़ी होगी.

अंग्रेजी अखबार 'टाइम्स ऑफ इंडिया' ने अपनी रिपोर्ट में ये जानकारी दी है. रिपोर्ट के मुताबिक, कई मंत्रालयों ने इस प्रस्ताव पर सहमति जताई है. अगर इसपर मुहर लग जाती है, तो बढ़ते प्रदूषण की समस्या का बहुत हद तक निदान हो जाएगा. बता दें कि अफ्रीका में प्रदूषण और रेगिस्तान की समस्या से निपटने के लिए 'ग्रेट ग्रीन वॉल ऑफ सहारा' बनाया है.

ग्रीन वॉल से क्या होगा?
रिपोर्ट के मुताबिक, 'ग्रीन वॉल ऑफ इंडिया' को थार रेगिस्तान के पूर्वी तरफ विकसित किया जाएगा. ये वॉल गुजरात के पोरबंदर से हरियाणा के पानीपत को कवर करेगी. इस वॉल से कम हो रहे हरित क्षेत्र को बढ़ाया जा सकेगा. इसके साथ ही गुजरात, राजस्थान, हरियाणा से लेकर दिल्ली तक फैली अरावली की पहाड़ियों पर भी हरित क्षेत्र को संरक्षित किया जा सकेगा.

पाकिस्तान से दिल्ली आने वाली धूल रूकेगी
रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि 'ग्रेट ग्रीन वॉल ऑफ इंडिया' से हर साल पाकिस्तान और राजस्थान की तरफ से दिल्ली आने वाली धूल से निजात मिलेगी. टाइम्स ऑफ इंडिया ने एक अधिकारी के हवाले से रिपोर्ट में लिखा- 'भारत में घटते वन और बढ़ते रेगिस्तान को रोकने का ये आइडिया हाल ही में संयुक्त राष्ट्र की कॉन्फ्रेंस (COP14) से आया था. हालांकि, अभी इस आइडिया पर विचार किया जा रहा है.'

africa green wall
अफ्रीका का ग्रेट ग्रीन वॉल

Loading...


कब तक पूरा होगा काम?
रिपोर्ट के मुताबिक, गुजरात से दिल्ली बॉर्डर तक ग्रीन वॉल बनवाने में कम से कम 2030 तक का वक्त लगेगा. अफ्रीका में 'ग्रेट ग्रीन वॉल' पर करीब एक दशक पहले काम शुरू हुआ था. हालांकि कई देशों की भागीदारी होने और उनकी अलग-अलग कार्यप्रणाली के चलते अब भी यह हकीकत में तब्दील नहीं हो सका है. भारत सरकार ने ग्रीन वॉल प्रोजेत्ट के तहत 26 मिलियन हेक्टेयर भूमि को प्रदूषण मुक्त करने का लक्ष्य रखा है.

दिल्ली दुनिया की सबसे प्रदूषित राजधानियों में शामिल
बता दें कि एयर विजुअल और ग्रीनपीस द्वारा जारी वायु प्रदूषण की ताजा रिपोर्ट में दिल्ली दुनिया की सबसे प्रदूषित राजधानियों में शामिल है. रिपोर्ट के मुताबिक, सबसे प्रदूषित राजधानियों में दूसरे नंबर पर बांग्लादेश की राजधानी ढाका, तीसरे नंबर पर अफगानिस्तान की राजधानी काबुल, चौथे नंबर पर बहरीन की राजधानी मनामा, पांचवें नंबर पर मंगोलिया की राजधानी उलानबातर, छठे नंबर पर कुवैत की राजधानी कुवैत सिटी, सातवें नंबर पर नेपाल का काठमांडु, आठवें नंबर पर चीन का बीजिंग, नौवें नंबर पर यूएई की राजधानी अबुधाबी और दसवें नंबर पर इंडोनेशिया का जकार्ता आता है.

वहीं, सबसे प्रदूषित टॉप-10 शहरों में 5 एनसीआर के हैं. सबसे प्रदूषित देशों की सूची में भारत का स्थान तीसरा है.

ये भी पढ़ें: क्यों सुर्खियों में आई 16 साल की ये लड़की, ओबामा-ट्रंप तक इसके सामने फेल

दुनिया की पहली रोबोट नागरिक सोफिया पहुंची इंदौर, जलवायु परिवर्तन पर दी सीख

कटेंगे तो और जलेंगे जंगल! जानें मुंबई का बवाल कैसे है ग्लोबल चिंता का सवाल