सिरसा: डेरे के गढ़ में किसका चलेगा सियासी सिक्का? - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

सिरसा: डेरे के गढ़ में किसका चलेगा सियासी सिक्का?

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
सिरसा: डेरे के गढ़ में किसका चलेगा सियासी सिक्का?
सिरसा में पहला विधानसभा चुनाव जनसंघ ने जीता था

Haryana Assembly Election 2019: इनेलो का निवर्तमान विधायक हो चुका है बीजेपी (BJP) में शामिल, लेकिन टिकट मिली है संघ के कार्यकर्ता को. इस सीट पर सिर्फ एक बार चुनाव जीती है भाजपा

  • Share this:
नई दिल्ली. हरियाणा (Haryana) की सियासत में सिरसा (Sirsa) बड़ा नाम है. वो इसलिए क्योंकि यहां डेरा सच्चा सौदा (Dera Sacha Sauda) का मुख्यालय है. जहां सभी राजनीतिक दलों के नेता मत्था टेकते रहे हैं. सिरसा लोकसभा क्षेत्र है और इसमें सिरसा नाम से विधानसभा भी है. जहां हुए 12 चुनावों में से पांच बार कांग्रेस (Congress) ने अपना परचम लहराया है. बीजेपी (BJP) ने इस सीट पर सिर्फ एक बार चुनाव जीता है. जब 1996 में गणेशीलाल यहां से चुने गए थे. 2014 में यह सीट इनेलो (INLD) ने जीती थी लेकिन विधायक माखनलाल सिंगला अब बीजेपी में शामिल हो चुके हैं.

सिंगला टिकट के दावेदार थे. लेकिन उन्हें टिकट न देकर बीजेपी ने प्रदीप रातुसरिया को टिकट दिया है. उनके पिता 70 के दशक से संघ (RSS) से जुड़े रहे हैं. वो इस सीट से चुनाव लड़ चुके हैं और दूसरे नंबर पर रहे थे. सियासी जानकारों का कहना है कि यदि सिंगला नाराज होते हैं तो इस बार भी यहां भगवा लहराने में दिक्कत हो सकती है.

 Haryana Assembly Election 2019, हरियाणा विधानसभा चुनाव, Haryana Election 2019, हरियाणा चुनाव 2019, Sirsa, सिरसा, Sirsa assembly constituency, सिरसा विधानसभा क्षेत्र, bjp, बीजेपी, congress, कांग्रेस, rss, आरएसएस, political history of Sirsa assembly seat, सिरसा विधानसभा सीट का राजनीतिक इतिहास
सिरसा में कांग्रेस का गढ़ रहा है (प्रतीकात्मक फोटो)

सिरसा विधानसभा में पहली बार चुनाव 1967 में हुए थे. तब यहां से भारतीय जनसंघ के एल. दास (लक्ष्मण दास अरोड़ा) ने कांग्रेस प्रत्‍याशी एस. राम को हराया था. राजधानी चंडीगढ़ से करीब ढाई सौ किलोमीटर दूर स्थित इस क्षेत्र का अस्तित्‍व महाभारतकाल से बताया जाता है. इमरजेंसी के बाद हुए 1977 के विधानसभा चुनाव में यहां पर जनता पार्टी ने जीत हासिल की थी. यहां सबसे ज्यादा पांच बार लक्ष्मण दास अरोड़ा ने चुनाव जीता है. एक बार जनसंघ, तीन बार कांग्रेस और एक बार निर्दलीय चुनाव जीतकर वे विधानसभा पहुंचे.

अरोड़ा ने करीब पांच दशक तक सिरसा में एकछत्र राज किया. इस सीट से 2009 में गोपाल कांडा ने चुनाव लड़ा और जीता था. बीजेपी यहां तीन बार दूसरे नंबर पर रही है.  2014 में इनेलो के माखनलाल सिंगला के सामने दूसरे नंबर पर गोपाल कांडा खुद थे, जो यहां पर अपनी नई नवेली हरियाणा लोकहित पार्टी (Haryana Lokhit Party) से खड़े थे.

ये भी पढ़ें:

BJP Candidates List: नवरात्रि में बीजेपी दिया इन नौ महिलाओं को टिकट का तोहफा!

Loading...


हरियाणा विधानसभा चुनाव: दो मंत्रियों के टिकट कटने की ये है पूरी कहानी!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सिरसा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 5, 2019, 8:48 AM IST

Loading...