Dussehra: जिंदगी में 1 बार जरूर देखें यहां रावण दहन, बेहद ख़ास है - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

Dussehra: जिंदगी में 1 बार जरूर देखें यहां रावण दहन, बेहद ख़ास है

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
Dussehra: दशहरा पर अगर इन जगहों पर रावण दहन नहीं देखा तो क्या देखा, जिंदगी में एक बार जरूर देखें यहां की Vijayadashami
दशहरा पर अगर इन जगहों पर रावण दहन नहीं देखा तो क्या देखा, जिंदगी में एक बार जरूर देखें यहां की Vijayadashami

दशहरा, विजयादशमी, रावण दहन (Dussehra, Vijayadashami , Ravan Dahan): रावण दहन को लोग बुराई पर अच्छाई की जीत के तौर पर मानते हैं. इस बार दशहरा (विजयादशमी) 8 अक्टूबर को है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2019, 10:42 AM IST
  • Share this:
दशहरा, विजयादशमी, रावण दहन (Dussehra, Vijayadashami , Ravan Dahan): दशहरा विजयदशमी अच्छाई पर बुराई की जीत के इस त्यौहार को पूरे देश में लोग पूरे धूमधाम से मनाते हैं. इस दिन लोग बुराई के नाश के तौर पर रावण दहन करते हैं. धार्मिक मान्यता के अनुसार, भगवान श्री राम ने लंकापति रावण से 9 दिन युद्ध करने के बाद दसवें दिन उसका संहार किया था. लोग भगवान राम की इस जीत का जश्न मनाने के लिए रावण दहन करते हैं. रावण दहन को लोग बुराई पर अच्छाई की जीत के तौर पर मानते हैं. इस बार दशहरा (विजयादशमी) 8 अक्टूबर को है. इस दिन लोगों में रावण दहन देखने का काफी क्रेज है. लोग देश विदेश तक में रावण दहन देखना चाहते हैं. कुछ जगहों के रावण दहन काफी फेमस हैं. इस मौके पर आइए जानते हैं उन जगहों के बारे में जहां रावण दहन देखने केवल देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी लोग आते हैं...

इसे भी पढ़ेंः इस बार पूरब के स्विट्जरलैंड की करें सैर, यूरोप घूमना भूल जाएंगे

1. मैसूर: भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर में मैसूर का दशहरा काफी फेमस है. करीब 600 सालों से मैसूर में दशहरा मनाया जाता है. इसकी शुरुआत चामुंडी पहाड़ियों में स्थित चामुंडेश्वरी मंदिर में पूजा-अर्चना के साथ होती है. यहां 10 दिन तक दशहरा उत्सव मनाया जाता है.

2. सीकर: राजस्थान के सीकर जिले के बाय गांव में रावण का पुतला नहीं बनाया जाता है, बल्कि रावण बने व्यक्ति का काल्पनिक वध किया जाता है. सीकर जिले के दांतारामगढ़ के बाय गांव की पहचान दशहरे मेले के लिए देश भर में है. दक्षिण भारतीय शैली में होने वाले इस मेले को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते है. मेले की विशेषता यह है कि विजयदशमी के दिन राम रावण की सेना के बीच युद्ध होता है. इसमें बुराई के प्रतीक रावण का वध किया जाता है.

इसे भी पढ़ेंः दिल्ली से 5 घंटे की ड्राइव कर इस बार लें अलसीसर का मजा, देखें राजस्थान का असली रंग

3. कुल्लू: कुल्लू में दशहरा के दौरान भगवान रघुनाथ जी की रथयात्रा निकलती है, जो कि अलग-अलग जगहों से होकर गुजरती है. वहीं कुल्लू के दशहरे में रावण का पुतला जलाया नहीं जाता. दशहरे की तैयारियां अश्विन महीने के पहले 15 दिनों से ही शुरू हो जाती हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए यात्रा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 7, 2019, 10:37 AM IST

Loading...