Railway ने कबाड़ बेचकर कमाए 35 हजार करोड़ रुपये : RTI में हुआ खुलासा - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

Railway ने कबाड़ बेचकर कमाए 35 हजार करोड़ रुपये : RTI में हुआ खुलासा

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
Railway ने कबाड़ बेचकर कमाए 35 हजार करोड़ रुपये, RTI में हुआ खुलासा
10 साल में की 35,073 करोड़ रुपये की आमदनी

भारतीय रेलवे (Indian Railways) की बड़ी कामयाबी, स्क्रैप बेचकर 10 साल में की 35,073 करोड़ रुपये की कमाई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 10, 2019, 10:39 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रेलवे (Indian Railways) की एक बड़ी कामयाबी सामने आई है. रेलवे ने स्क्रैप बेचकर 10 साल में 35,073 करोड़ रुपये की कमाई की है. रेलवे की तरफ से एक RTI आवेदन के जवाब में जारी ब्‍योरे के अनुसार, विभाग को बीते 10 साल में Scrap (कबाड़) से 35,073 करोड़ रुपये की आमदनी हुई है. रेल मंत्रालय ने बीते 10 साल में बेचे गए स्क्रैप को लेकर जो ब्‍योरा जारी किया है, उससे पता चलता है कि वर्ष 2009-10 से वर्ष 2018-19 की अवधि के बीच दूसरे तरह के स्क्रैप बेचकर विभाग ने 35,073 करोड़ रुपये कमाए. इसमें कोच, वैगन्स और पटरी के कबाड़ शामिल हैं.

इन चीजों को बेचा गया
RTI के तहत रेलवे बोर्ड के ब्‍योरे में बताया गया है कि बीते 10 साल में सबसे ज्यादा स्क्रैप 4,409 करोड़ रुपये का वर्ष 2011-12 में बेचा गया, जबकि सबसे कम स्क्रैप से आमदनी वर्ष 2016-17 में 2,718 करोड़ रुपये हुई. रेलवे बोर्ड के मुताबिक, बेचे गए कबाड़ में सबसे बड़ी हिस्सेदारी रेल पटरियों की है. 2009-10 से 2013-14 के बीच 6,885 करोड़ रुपये के स्क्रैप बेचे गए, वहीं वर्ष 2015-16 से 2018-19 की अवधि के बीच 5,053 करोड़ रुपये के स्क्रैप बेचे गए. कुल मिलाकर 10 साल में रेल पटरियों का स्क्रैप बेचने से 11,938 करोड़ रुपये की आमदनी हुई.

ये भी पढ़ें: क़र्ज़ में डूबे पाकिस्तान ने चीन से निभाई दोस्ती, 23 साल तक इस चीज पर दी Tax छूट

रेल पटरी के स्क्रैप से एक बात साफ हो जाती है कि वर्ष 2009-10 से 2013-14 के बीच 5 साल की तुलना में 2014-15 से 2018-19 के बीच रेल पटरी का स्क्रैप कम निकला है. इससे ऐसा लगता है कि अंतिम 5 साल में रेल पटरियों में कम बदलाव हुआ है. अगर रेल पटरी बदलती तो उसी अनुपात में पुरानी पटरी के स्क्रैप निकलते हैं.

ये भी पढ़ें:

सोशल मीडिया पर VIRAL हुआ 'LIC डूब रही है', कंपनी ने कहा- घबराए नहीं, सब ठीक है


RBI ने बैंक ऑफ महाराष्ट्र को दिया झटका, ₹7360 करोड़ का सेटलमेंट प्रस्ताव खारिज
मोदी सरकार का बड़ा फैसला- 5,300 विस्थापित कश्मीरी परिवारों को मिलेंगे 5.5 लाख

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 10, 2019, 10:03 AM IST

Loading...