RBI मॉनिटरी पॉलिसी की मीटिंग आज,0.25% कटौती की उम्मीद आपकी जेब पर पड़ेगा ये असर - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

RBI मॉनिटरी पॉलिसी की मीटिंग आज,0.25% कटौती की उम्मीद आपकी जेब पर पड़ेगा ये असर

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
RBI मॉनिटरी पॉलिसी की मीटिंग आज, 0.25% कटौती की उम्मीद आपकी जेब पर पड़ेगा ये असर
0.25 फीसदी की कटौती देखने को मिल सकती

आज रिजर्व बैंक की मॉनिटरी पॉलिसी पर बाजार का फोकस होगा. क्या RBI दोबारा दरों में कटौती करेगा, इसपर सीएनबीसी-आवाज़ ने एक्सपर्ट्स और बैंकर्स के बीच पोल कराया है. पोल में 60 फीसदी लोगों का मानना है कि आज दरों में 0.25 फीसदी की कटौती देखने को मिल सकती है.

  • Share this:
नई दिल्ली. आज रिजर्व बैंक की मॉनिटरी पॉलिसी पर बाजार का फोकस होगा. क्या RBI दोबारा दरों में कटौती करेगा, इसपर सीएनबीसी-आवाज़ ने एक्सपर्ट्स और बैंकर्स के बीच पोल कराया है. पोल में 60 फीसदी लोगों का मानना है कि आज दरों में 0.25 फीसदी की कटौती देखने को मिल सकती है. यानि लगातार पांचवी बार RBI से रेट कट की उम्मीदें हैं. वहीं 60 फीदी जानकार मानते हैं कि इस वित्त वर्ष दरें कुल 40 बेसिस पॉइंट घट सकती हैं.

RBI पॉलिसी में ग्रोथ पर कमेंट्री पर भी नजरें टिकी रहेंगी, लिहाजा जब हमने पूछा कि GDP ग्रोथ के अनुमान में कोई बदलाव होगा, तो 60 फीसदी एक्सपर्ट्स की राय है कि ये 6.9 फीसदी से घटकर 6.3 से 6.5 फीसदी के बीच हो सकती है. लेकिन सभी जानकार एकमत हैं कि RBI दूसरी छमाही के लिए रिटेल महंगाई अनुमान में बदलाव नहीं करेगा. हालांकि पॉलिसी का रुख कैसा होगा, इसपर राय बटी हुई है.

ये भी पढ़ें: बैंक के डूबने पर खातों में जमा रकम का क्या होगा! यहां जानिए जवाब

 


Loading...

इस साल अब तक इतना घट चुका है रेपो रेट
रिजर्व बैंक इस साल लगातार चार बार में रेपो दर में 1.10 प्रतिशत की कटौती कर चुका है. अगस्त की मौद्रिक नीति बैठक में एमपीसी ने रेपो दर को 0.35 प्रतिशत घटाकर 5.40 प्रतिशत कर दिया. एक और खास बात यह है कि एमपीसी की बैठक ऐसे समय हो रही है जबकि रिजर्व बैंक ने बैंकों से एक अक्टूबर से अपने सभी कर्ज को बाहरी मानक मसलन रेपो दर से जोड़ने को कहा है. इससे रिजर्व बैंक द्वारा ब्याज दर में कटौती का लाभ अधिक तेजी से उपभोक्ताओं को मिल सकेगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 4, 2019, 9:57 AM IST

Loading...