मर्दों के आंसू निकलना कोई शर्म की बात नहीं-सचिन तेंदुलकर - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

मर्दों के आंसू निकलना कोई शर्म की बात नहीं-सचिन तेंदुलकर

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
सचिन तेंदुलकर ने शेयर की रोने वाली तस्वीर, कहा- मर्दों के आंसू निकलना कोई शर्म की बात नहीं
सचिन तेंदुलकर ने कहा- पुरुषों का रोना कमजोरी नहीं

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने इंटरनेशनल मेंस वीक के मौके पर कहा कि पुरुषों को अपनी भावनाएं नहीं छिपानी चाहिए

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 21, 2019, 9:03 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत के महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने कहा कि पुरूषों को अपनी भावनाओं को छुपाना नहीं चाहिए और इन्हें व्यक्त करते समय अगर उनके आंसू छलक जाते हैं तो उन्हें शर्मसार नहीं होना चाहिए. ऐसा भी समय था जब पुरूषों का रोना कमजोर व्यक्तित्व की निशानी माना जाता था लेकिन तेंदुलकर इस बात से इत्तेफाक नहीं रखते. हालांकि ऐसा भी दौर था जब वह मानते थे कि आंसू निकलने से पुरूष कमजोर हो जाते हैं.

रोना कमजोरी की निशानी नहीं
मौजूदा ‘इंटरनेशनल मेन्स वीक’ के मौके पर पुरूषों को खुले पत्र में महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने कहा कि जब चीजें उनके मन मुताबिक नहीं चलती तो उन्हें खुद को सख्त नहीं दिखाना चाहिए. उन्होंने भावनात्मक संदेश में कहा, 'अपने आंसू दिखाने में कोई शर्म की बात नहीं है. इसलिये अपने उस हिस्से को क्यों छुपाना जो वास्तव में आपको मजबूत करता हो? आंसू क्यों छुपाने चाहिए?'

रिटायरमेंट के दौरान रोए थे सचिन तेंदुलकर


तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने कहा, 'क्योंकि आपको ऐसी ही सोच के साथ बड़ा किया गया है कि पुरूषों को रोना नहीं चाहिए. कि रोने से पुरूष कमजोर हो जाते हैं. उन्होंने कहा, 'मैं इसी सोच के साथ बड़ा हुआ, आज मैं आपको इसलिये लिख रहा हूं क्योंकि मैंने महसूस किया है कि मैं गलत था. मेरी परेशानियों और मेरे दर्द ने मुझे वो बनाया है जो मैं हूं, मुझे बेहतर इंसान बनाया. तेंदुलकर (46 वर्ष) ने कहा कि रोना आपको कमजोर नहीं करता.
सचिन तेंदुलकर ने 2013 में लिया था संन्यास

बता दें क्रिकेट के मैदान या बाहर ऐसे कई मौके आए हैं जब पुरुष क्रिकेटर्स रोते हुए दिखाई दिए हैं. खेल के मैदान पर अकसर भावनाओं का सैलाब उमड़ता है और खिलाड़ियों के आंसू छलकते हैं. जब साल 2013 में सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने अपने करियर का आखिरी मैच खेला था तो रिटायरमेंट स्पीच के दौरान उनकी आंखों से आंसू छलक गए थे. सिर्फ सचिन ही नहीं स्टेडियम में मौजूद कई फैंस की आंखें नम हो गई थी.

Loading...


टेस्ट के बाद क्या वनडे-टी20 में धमाल मचाएंगे मयंक अग्रवाल, टीम में मिलेगा मौका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 9:01 AM IST

Loading...