उगते सूर्य देव को अर्घ्य देकर लोगों ने मांगी मनोकामना, छठ हुआ संपन्न - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

उगते सूर्य देव को अर्घ्य देकर लोगों ने मांगी मनोकामना, छठ हुआ संपन्न

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
छठ पूजा, छठ पूजा सूर्य देव अर्घ्य (Happy Chhath Puja, Chhath Puja 2019): महिलाओं ने रविवार सुबह सूर्य देव को अर्घ्य देकर चार दिन के महापर्व छठ का समापन किया. सुबह से ही छठ पूजा के लिए घाट पर लोगों की भीड़ जमा थी. आज 3 नवंबर (उषा अर्घ्य) सूर्योदय का समय- 06:34 बजे था. छठी मैया और सूर्य भगवान को अर्घ्य देने के बाद ही महिलाओं ने छठ का प्रसाद खाकर व्रत खोला. अर्घ्य देने के बाद महिलाओं ने सूर्य देव और छठी मैया से मनोकामना पूर्ति हेतु प्रार्थना की. आइए जानते हैं कैसे पूरा किया लोगों ने छठ के समापन का कार्यक्रम...

इसे भी पढ़ेंः Chhath Puja 2019: इन चीजों के बिना अधूरी है छठ पूजा, देखें पूजा सामग्री की लिस्ट

Loading...


छठ पूजा का समापन:
छठ पूजा का समापन सप्तमी तिथि को किया जाता है. इस दिन छठ घाट पर पानी में खड़े होकर उगते सूर्य को पवित्र जल से अर्घ्य दिया जाता है और सूर्य देव तथा छठी मैया से मनोकामना पूरी करने की कामना की जाती है. लोगों ने आज उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद सूर्य देव से प्रार्थना की और प्रसाद ग्रहण किया.
 chhath puja 2019 devotees arghya to rising god sun

chhath puja 2019 devotees arghya to rising god sun
छठ की सामग्री में यह सामान शामिल होता है:
छठ पूजा की सामग्री में बांस की 3 बड़ी टोकरी, बांस या पीतल के बने 3 सूप, थाली, दूध और ग्लास, चावल, लाल सिंदूर, दीपक, नारियल, हल्दी, गन्ना, सुथनी, सब्जी और शकरकंदी, नाशपती, बड़ा नींबू, शहद, पान, साबुत सुपारी, कैराव, कपूर, चंदन और मिठाई, प्रसाद के रूप में ठेकुआ, मालपुआ, खीर-पुड़ी, सूजी का हलवा, चावल के बने लड्डू.
 chhath puja 2019

chhath puja 2019

इसे भी पढ़ेंः Chhath Puja 2019: क्यों मनाया जाता है छठ, क्या है इसके पीछे का इतिहास?

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.