क्या होता है PM 10, PM 2.5 और एयर क्वालिटी इंडेक्स? - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

क्या होता है PM 10, PM 2.5 और एयर क्वालिटी इंडेक्स?

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo
नई दिल्ली. बेतहाशा बढ़ते प्रदूषण (Air Pollution in Delhi) को कम करने के लिए आज सोमवार से दिल्ली-एनसीआर में गाड़ियों के लिए ऑड-इवन फार्मूला लागू कर दिया गया है. फिलहाल, प्रदूषण की वजह से इन दिनों तीन शब्द सबसे ज्यादा चर्चा में हैं. पीएम-10, पीएम 2.5 और एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI). एयर क्वालिटी इंडेक्स मुख्य रूप से 8 प्रदूषकों से तैयार होता है, लेकिन दिल्ली के प्रदूषण में असली किरदार निभा रहे हैं PM 2.5 और PM 10 कण. ये कण इतने छोटे होते हैं कि सांस के जरिए आसानी से हमारे फेफड़ों में पहुंच जाते हैं और सेहत (Health) के दुश्मन बन जाते हैं. आईए दोनों कणों के बारे में जानते हैं कि यह हमें कैसे नुकसान पहुंचाते हैं?

पीएम 10

पीएम 10 को पर्टिकुलेट मैटर (Particulate Matter) कहते हैं. इन कणों का साइज 10 माइक्रोमीटर या उससे कम व्यास होता है. इसमें धूल, गर्दा और धातु के सूक्ष्म कण शामिल होते हैं. पीएम 10 और 2.5 धूल, कंस्‍ट्रक्‍शन और कूड़ा व पराली जलाने से ज्यादा बढ़ता है.

what is pm10, पीएम 10 क्या है, what is pm 2.5, पीएम 2.5 क्या है. particulate matter, पार्टिकुलेट मैटर, air quality index, एयर क्वालिटी इंडेक्स, दिल्ली में वायु प्रदूषण, odd-even scheme, ऑड-ईवन स्कीम, Air Pollution in Delhi, क्या है एयर क्वालिटी इंडेक्स, what is AQI, पराली, parali
दिल्ली में पीएम 2.5 के स्रोत


पीएम 2.5

पीएम 2.5 हवा में घुलने वाला छोटा पदार्थ है. इन कणों का व्यास 2.5 माइक्रोमीटर या उससे कम होता है. पीएम 2.5 का स्तर ज्यादा होने पर ही धुंध बढ़ती है. विजिबिलिटी का स्तर भी गिर जाता है.

यह कण कितना छोटा होता है इसे जानने के लिए ऐसे समझिए. एक आदमी का बाल लगभग 100 माइक्रोमीटर का होता है. इसलिए इसकी चौड़ाई पर पीएम 2.5 के लगभग 40 कणों को रखा जा सकता है.

Loading...


आंख, गले और फेफड़े की तकलीफ बढ़ती है सांस लेते वक्त इन कणों को रोकने का हमारे शरीर में कोई सिस्टम नहीं है. ऐसे में पीएम 2.5 हमारे फेफड़ों में काफी भीतर तक पहुंचता है. पीएम 2.5 बच्चों और बुजुर्गों को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाता है. इससे आंख, गले और फेफड़े की तकलीफ बढ़ती है. खांसी और सांस लेने में भी तकलीफ होती है. लगातार संपर्क में रहने पर फेफड़ों का कैंसर भी हो सकता है.

कितना होना चाहिए पीएम 10, 2.5

>>पीएम 10 का सामान्‍य लेवल 100 माइक्रो ग्राम क्‍यूबिक मीटर (एमजीसीएम) होना चाहिए.

>>पीएम 2.5 का नॉर्मल लेवल 60 एमजीसीएम होता है

Air pollution in Delhi, दिल्ली में वायु प्रदूषण, delhi air quality, दिल्ली में हवा की गुणवत्ता, delhi air pollution level, दिल्ली में प्रदूषण का स्तर, safar pollution index, सफर, cpcb air quality index, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, causes of air pollution in delhi, दिल्ली में प्रदूषण के कारण, parali, पराली, Stubble Burning, पराली जलाने की घटनाएं, Haryana Police, हरियाणा पुलिस, FIR, एफआईआर, arvind kejriwal, अरविंद केजरीवाल, farmer, किसान, IIT, आईआईटी
दिल्ली के प्रदूषण पर आईआईटी कानपुर की रिपोर्ट

एयर क्वालिटी इंडेक्स क्या होता है

प्रदूषण की समस्या मापने के लिए एयर क्वालिटी इंडेक्स बनाया गया. इंडेक्स बताता है कि हवा में पीएम-10, 2.5, PM10, PM2.5, सल्फर डाइऑक्साइड (SO2), नाइट्रोजन डाइऑक्साइड (NO2) और कार्बन मोनोऑक्साइड (CO) सहित 8 प्रदूषकों की मात्रा विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा तय किए गए मानकों के तहत है या नहीं.




कौन मास्क है कारगर

फीजिशियन डॉ. सुरेंद्र दत्ता का कहना है कि जब तक मौसम साफ नहीं हो जाता तब तक सांस के रोगी बहुत जरूरी हो तो ही घर से बाहर निकलें. अच्छी क्वालिटी का मास्‍क लगाएं, कम से कम एन-95 मास्‍क लगाएं, जिससे पीएम-2.5 कंट्रोल हो. बुजुर्गों और बच्‍चों को पार्क में न भेजें. हो सके तो सैर मौसम साफ होने पर करें. सांस, हार्ट, निमोनिया और आंख के रोगी व ट्रांसप्‍लांट करवाने वाले विशेष सावधानी बरतें.





ये भी पढ़ें:

कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को दी बड़ी सौगात! सिर्फ 5 रुपये के कैप्सूल से खत्म हो जाएगी ये समस्या

छलनी हो गया दिल्ली का सुरक्षा 'कवच', खत्म हो रहे जंगल, कैसे कम होगा प्रदूषण?