भगवान श्री कृष्ण ने स्नान करते वक्त क्यों चुराए थे गोपियों के वस्त्र - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

भगवान श्री कृष्ण ने स्नान करते वक्त क्यों चुराए थे गोपियों के वस्त्र

 एक बार भगवान कृष्ण ने स्नान करती गोपियों के कपड़े उठा लिए और उनसे ये प्रतिज्ञा करवाई कि वह आगे से पूर्ण न‌िर्वस्‍त्र होकर स्नान नहीं करेंगीं ये शरारत से नहीं किया गया था कृष्ण का जीवन कुछ सन्देश देता है उनकी शरारत भी कुछ उदेश्य से ही होती है उनका जीवन उनके मुख से निकले वचन अपने अंदर कई तरह की शिक्षाएं लिए हुए होता है इसलिए लोग जब भी गीता बार बार पढ़ते हैं तो उन्हें हर बार नए अर्थ समझ में आते हैं।

Third party image reference

एक बार जब गोप‌ियां अपने वस्‍त्र उतार कर स्नान करने जल में उतर जाती हैं तो भगवान श्रीकृष्‍ण गोप‌ियों के वस्‍त्र चुरा लेते हैं और जब गोप‌ियां वस्‍त्र ढूंढती हैं तो उन्हें पता चलता है उनके वस्‍त्र पास ही के पेड़ पर कान्हा के पास हैं गोप‌ियां जब कान्हा से अपने वस्त्र मांगती है तो कान्हा कहते हैं कि बाहर आ कर ले लो इस पर बिना वस्त्रों से गोपियां जल से बाहर आने में अपनी असमर्थता जताती हैं कान्हा उनसे बहस करते हैं गोपियां कहती हैं जब वो नदी में स्नान करने आईं तो उस समय यहां कोई नहीं था

ये बात सुनकर कान्हा कहते हैं मैं तो हर पल हर जगह मौजूद होता हूं फिर आसमान में उड़ते पक्ष‌ियों और जमीन पर चलने वाले जीवों ने तुम्हें न‌िर्वस्‍त्र देखा जल में मौजूद जीवों ने तुम्हें न‌िर्वस्‍त्र देखा और तो और जल रूप में मौजूद वरुण देव ने तुम्हें निर्वस्त्र देखा।

Third party image reference

गरुड़पुराण में बताया गया है क‌ि स्नान करते समय आपके प‌ितर यानी आपके पूर्वज आपके आस-पास होते हैं।

हमें जो दिखाई देता है वह वही जगत है जिसे हमारी आँखें देख पाती हैं भौतिक अंगो से भौतिक वस्तुएं ही दिखाई देती हैं इसलिए हमारी आँखें हमारे आसपास के सूक्ष्म जगत को नहीं दख पाती हम अकेले दिखते हैं परन्तु होते नहीं हैं हर धर्म इस विषय पर कुछ न कुछ कहता है इसलिए आज भी हमारे ऋषि मुनि सभी न‌िर्वस्‍त्र होकर नहाने से मना करते हैं।

दोस्तो अगर आप लोगो को पोस्ट अच्छा लगा हो तो पोस्ट को लाइक जरूर करें धन्यवाद हरे कृष्णा दोस्तो।