पिता के दोस्त ने हड़प ली थी संपत्ति, पाई-पाई को हो गया था मोहताज ये एक्टर, उम्र थी 13 साल - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

पिता के दोस्त ने हड़प ली थी संपत्ति, पाई-पाई को हो गया था मोहताज ये एक्टर, उम्र थी 13 साल

आज के दौर मे फिल्म इंडस्ट्री मे काम करने वाले लगभग हर कलाकार के पास करोड़ों की संपत्ति हैं, इनका नाम भारत के अमीर व्यक्तियों मे लिया जा रहा है। लेकिन आपको बता दे यह सितारे बचपन से ही इतने अमीर नहीं थे, लगभग सभी ने अपने बचपन मे कठिन परिस्थितियों का सामना किया है। आइये आज हम एक ऐसे अभिनेता के बारे मे बताते हैं, जो 13 साल की उम्र मे पाई-पाई का मोहताज हो गया था।
इस एक्टर का नाम है नाना पाटेकर, जिसे मौजूदा समय मे बॉलीवुड का एक महान कलाकार के अलावा एक एक दिल और गरीबों का मसीहा के रूप मे जाना जाता है। यह अपनी फिल्मों से ज्यादा अपनी दरियादिली के लिए चर्चा मे रहते हैं।नाना पाटेकर बॉलीवुड के ऐसे दानी अभिनेता हैं, जो अपनी कमाई का 90% हिस्सा गरीबों के लिए दान मे दे चुका है।
नाना पाटेकर ने तमाम जरूरतमंद लोगों की मदद करने के लिए एक ख़ास फाउंडेशन बनाया है, अपनी संस्था के साथ मिलकर नाना पाटेकर महाराष्ट्र के 700 से ज्यादा सुखा संभावित क्षेत्रों के लिए जलाशयों का निर्माण भी करवा था। नाना पाटेकर हमेशा से ही सादा जीवन जीना पसंद करते हैं।
बॉलीवुड इंडस्ट्री में नाना पाटेकर अपने दमदार एक्शन और डायलॉग के लिए जाने जाते हैं, इन्होने अपने करियर में 'क्रांतिवीर' 'यशवंत' 'तिरंगा' जैसी बहुत सी सुपर हिट फ़िल्में दी हैं, अपनी दमदार एक्टिंग और अभिनय के दमपर नाना सालों से बॉलीवुड मे बने हुए हैं, और अपनी फिल्मों की बदौलत करोड़ों की दौलत कमाई है।
नाना ने एक इंटरव्यू में बताया था कि मिडिल क्लास फैमिली में पले बढ़े होने के साथ कैसे एक झटके में दुनिया बदल गई थी। नाना ने बताया था - मेरे पिता टेक्सटाइल पेंटिंग में थे, और एक छोटा सा बिजनेस चलाते थे।
जब मैं 13 साल का था तो मेरे पिता के एक करीबी ने उनकी प्रॉपर्टी समेत सब कुछ धोखे से हड़प लिया था। इसके बाद हम एक-एक रोटी को मोहताज हो गए थे। मुझे 13 साल की उम्र में काम करना पड़ा था। स्कूल के बाद मैं 8 किलोमीटर दूर चलकर जाता था, और फिल्मों के पोस्टर्स पेंट करता था। तब कहीं जाकर एक वक्त की रोटी नसीब हो पाती थी। उस दौरान मुझे 35 रुपए महीने मिलते थे।
नाना के मुताबिक सफल होने की भूख ने मुझे इतना कुछ सिखा दिया कि मुझे किसी एक्टिंग स्कूल जाने की जरूरत नहीं पड़ी। स्कूली दिनों में थियेटर करना शुरू किया था, और इसके बाद एप्लाइड आर्ट कॉलेज के बाद एक एड एजेंसी ज्वाइन की थी। मैं स्मिता पाटिल की वजह से फिल्मों में आया था।