भारत का सबसे शाही परिवार कौनसा है? - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

भारत का सबसे शाही परिवार कौनसा है?

भारत शुरू से ही एक समृद्ध देश रहा है. शायद इसलिए ही भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था. सोने की चिड़िया कहे जाने वाले देश को कई देशों द्वारा लुटा भी गया लेकिन आज भी भारत में ऐसें कई राजघराने मौजूद है जो दुनिया भर में भारत की साख बनाये हुए हैं


इसमें कोई दो राय नहीं है की भारत में हजारों सालों तक राजा महाराजाओं का राज रहा है. आजादी के पहले तक राजशाही परिवार और उनके राजसी ठाटबाट देखने को मिलते थे. लेकिन अब इस तरह के राजशाही परिवार देखने को बहुत कम मिलते हैं. साल 1947 में जब हमारा देश आजाद हुआ तब राजशाही का दौर भी खत्म हो गया था . यद्यपि देश में अभी भी कुछ राजघराने मौजूद है जिनका ठाटबाट देखते ही बनता है.

राजस्थान का मेवाड़ घराना

मेवाड़ देश के सर्वोत्तम राजाओं में से एक महाराणा प्रताप की नगरी है. वर्तमान में राजस्थान के मेवाड़ राजघराने के प्रमुख संरक्षक हैं अरविंद सिंह है. बता दे अरविंद सिंह महंगी और बड़ी गाड़ियों के बेहद ही शौक़ीन है. उनका मेवाड़ के राजघराने का राजस्थान में एचआरएच ग्रुप ऑफ होटल्स नाम का होटल बिजनेस है और अरविंद सिंह मेवाड़ इस ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर हैं. महंगी गाड़ियो का शौक रखने वाले अरविंद के पास कई लक्ज़री गाड़ियां है. इसके अलावा उनके पास कई रोल्स रॉयस गाड़िया है जिनकी कीमत करोड़ों में है. उनका यह शौक उनके राजशाही ठाटबाट को बखूबी बयान करता है


राजस्थान के दक्षिण - पश्चिम भाग पर गुहिलों का शासन था। "नैणसी री ख्यात" में गुहिलों की 24 शाखाओं का वर्णन मिलता है जिनमें मेवाड़, बागड़ और प्रताप शाखा ज्यादा प्रसिद्ध हुई। इन तीनो शाखाओं में मेवाड़ शाखा अधिक महत्वपूर्ण थी। मेवाड़ के प्राचीन नाम शिवि,प्राग्वाट व मेदपाट रहे हैं।

ग्वालियर का सिंधिया रॉयल परिवार


देश में बहस छिड़ी हुई है कि भारत सहिष्णु है या असहिष्णु ? इसी बहस के बीच ग्वालियर ऐसा शहर है , जिसका इतिहास इस बात का गवाह है कि कैसे कई संस्कृतियां और धर्म यहां मिलजुल कर रहते हैं। इसका एक प्रमाण है शहर का एक ऐसा मुस्लिम परिवार जिसकी बनाई हुई पगडिय़ां सिंधिया राजघराना और उनके सरदार पीढिय़ों से पहनते आ रहे हैं।


ग्वालियर की सिंधिया रॉयल फैमिली एक अरबपति राजघराना और राजशाही परिवार है. कांग्रेस के पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री और कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी इसी रॉयल फैमिली से आते हैं. एक आरटीआई में खुलासा हुआ था कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के पास 24 करोड़ रुपये के गहने हैं जो उन्हें पुश्तैनी रुप में मिले हैं और सिंधिया फैमिली के पास 25 से ज्यादा कंपनियों के शेयर हैं.

बड़ौदा का रॉयल परिवार

भारत के रॉयल फैमिली में बडौदा राजघराने को हैदराबाद के बाद सबसे अमीर रियासत माना जाता था। किसी जमाने में यहां की गायगवाड़ रॉयल फैमिली की अपनी ट्रेन भी चला करती थी। मौजूदा समय में भी इस फैमिली की वेल्‍थ करीब 50 हजार करोड़ रुपए मानी जाती है। बडौदा का मशहूर पैलेस आज भी देश के सबसे खूबसूरत महलों में से एक है। - इसी रॉयल फैमिली की करीब 20 हजार करोड़ रुपए की दौलत पर कुछ साल पर दो रॉयल प्रिंस आपस में भीड़ गए थे। - नतीजा यह हुआ कि जिस कोर्ट में कभी उनके पुरखों की अदालतें और कानून चला करते थे, उसी कोर्ट में ये दोनों प्रिंस फरियादी बन गए।

बड़ौदा का रॉयल परिवार वाकई में काफी रॉयल है. लंबी कारो से लेकर बड़े महलों तक इस परिवार का ताल्लुक है. बड़ौदा राजशाही परिवार के मौजूदा प्रमुख समरजीत सिंह गायकवाड़ हैं. इनका रियल एस्टेट का बहुत बड़ा काम है. व्यापार के मामले में इन्हें अरबपति माना जाता है. इनके पास पुरे विश्व में प्रसिद्ध 600 एकड़ क्षेत्र में फैला महल है जिसमे 187 कमरे है.

मैसूर की वाडियार रॉयल फैमिली

मैसूर का वाडियार परिवार बेहद धनी है. वाडियार राजशाही परिवार के मुखिया यदुवीर राज कृष्णदत्ता वाडियार हैं. इनके पास लगभग 10 हज़ार करोड़ रूपए की संपत्ति है. इसके अलावा लक्ज़री कारो के बेहतरीन कलेक्शन भी है, यही नहीं इनके पास दुनिया भर की कई महंगी घडियाँँ भी है जो इनके राजशाही पर खूब सूट करती है.



राजकोट की जडेजा फैमिली

अरबों रूपए की संपत्ति के मालिक युवराज मंधातासीन जडेजा राजकोट घराने के प्रमुख हैं. मंधातासीन जडेजा ने हाइड्रो पावर प्लांट और बायो फ्यूल डेवलपमेंट के क्षेत्र में करीब 100 करोड़ रुपये का निवेश भी किया है. इस रॉयल फैमिली के पास भी शानदार रोल्स रॉयस कारों को जबरदस्त कलेक्शन है


जोधपुर का शाही परिवार

जोधपुर शाही परिवार के सदस्य अजीत मेदिता की 39 वर्ष की आयु में ब्रिटेन में मौत हो गई। उन्होंने यॉर्कशायर के ओल्डहाम में संपत्ति और निर्माण कार्य का एक बड़ा समूह स्थापित किया था।


जोधपुर का राजशाही परिवार देश के सबसे मशहूर और अमीर शाही परिवारों में से एक है. जिनके पास अरबों की संपत्ति है. इस फैमिली के मौजूदा मुखिया गजसिंह के पास उम्मेद भवन के नाम से दुनिया का सबसे बड़ा निजी घर है जिसमें करीब 347 कमरे हैं. उम्मेद भवन के एक हिस्से को होटल के रुप में तब्दील कर दिया गया है जिसे मैनेज करने के लिए प्रसिद्ध ताज ग्रुप के साथ जोधपुर की रॉयल फैमिली ने करार किया है. इस फैमिली के पास उम्मेद भवन के अलावा कुछ और शानदार किले भी हैं.

भारत के राजशाही परिवार आज भी अपने राजसी ठाटबाट के साथ ही रहते हैं जो की भारत को दुनिया से अलग बनाते है. इन परिवारों के आज का लाइफ स्टाइल को देखकर पुराने राज घरानों की याद ताजा हो जाती है. बताया जाता है की आज भी राजघराने के लोग सोने चांदी के बर्तनों में खाना खाते है.

अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो ऊपर दिए गए पिले बटन पर क्लिक करके हमें जरूर फॉलो करें। धन्यवाद !!