कहां से आये थे गांधीजी के तीन बन्दर इसके पीछे की कहानी - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

कहां से आये थे गांधीजी के तीन बन्दर इसके पीछे की कहानी

आपने बचपन से ही गांधीजी के कई सिद्धांतो के बारे में पढ़ा होगा सुना होगा जिसमें से शायद कई सिद्धांतो पर आपने अमल भी किया होगा गांधीजी सत्य और अहिंसा के पुजारी थे वह किसी भी तरह असत्य और हिंसा के समर्थक नहीं थे. आपने गांधीजी का एक और सिद्धांत गांधीजी के तीन बन्दर के बारे में जरुर सुना होगा लेकिन क्या आप जानते आखिर कहाँ से आये थे ये तीन बन्दर और गांधीजी से कैसे जुड़ गए थे. अगर नहीं पता तो आज हम आपको बताने वाले 
गांधीजी अपने महान सिद्धांतो के चलते दुनिया भर में प्रसिध्द हो गए थे. दुनिया भर से लोग उनसे मिलने आते थे ऐसे ही एक बार चीन का एक प्रतिनिधिमंडल गांधीजी से मिलने आया था. गांधीजी से मिलने के बाद चीन के इस प्रतिनिधिमंडल ने गांधीजी को एक भेंट दी थी जिसमें तीन बंदरों वाली मूर्ति थी.

सा
थ में ये भी कहा था कि भले ही इस तीन बंदरों की इस मूर्ति की कीमत बच्चों के खिलौने के बराबर हो लेकिन ये हमारे देश यानी चीन में काफी मशहूर है. इस बात को सुन गांधीजी सप्रेम उनकी भेंट को स्वीकार कर लिया था. तभी से ये बन्दर गांधीजी से जुड़ गए आगे चलकर एक सिद्धांत के रूप में विख्यात हुए.



बताया जाता है कि गांधीजी के तीन बन्दर के नाम भी है जिनमे पहले बन्दर नाम मिजारू बन्दर है जो अपने आँखों में हाथ रख कर दर्शाता है कि कभी भी बुरा मत देखों, दूसरे बन्दर का नाम मिकाजारू है जो अपने कानों में हाथ रख कर दर्शाता है कि कभी बुरा मत सुनों,

तीसरे बन्दर का नाम मजारू है जो अपने मुंह में हाथ रख कर दर्शाता है कि कभी बुरा मत बोलो, आपको बता दे कि यूनेस्को ने इन्हें अपनी वर्ल्ड हेरिटेज लिस्ट में शामिल किया है. जापान में इन्हें काफी बुद्धिमान बन्दर माना जाता है जहाँ का शिंटो सम्प्रदाय इन्हें काफी भी सम्मान देता है.