बेटों के शवों का इंतजार करती रहीं मां,जाने फांसी के वक्त क्या कर रहे थे दोषियों के घर वाले - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

बेटों के शवों का इंतजार करती रहीं मां,जाने फांसी के वक्त क्या कर रहे थे दोषियों के घर वाले

नमस्कार मित्रों आज आपका फिर से एक बार स्वागत है एक नए लेख में, दोस्तों जैसा कि आप सभी लोगों को मालूम है शुक्रवार को 20 तारीख को निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटका दिया गया लेकिन दोस्तों की आप लोगों को मालूम है जब निर्भया के दोषियों पर फांसी पर लटकाया गया था दोषियों के घर वाले क्या कर रहे थे आज हम आप लोगों को उसी के बारे में बताने जा रहे हैं।
आपकी जानकारी के लिए बता दें जब निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटकाया गया तब दोषियों के परिवार वाले दोषियों के शव का इंतजार कर रहे थे। दक्षिण दिल्ली के झुग्गी इलाके रविदास कैंप से कुछ ही किलोमीटर दूर तिहाड़ जेल में इनके बेटों को सुबह 5:30 बजे फांसी दी गई और ये दोनों अपने घरों के बाहर बेटों के शव का इतंजार करती रहीं।
शुक्रवार दोपहर को रविदास कैंप इलाके में पुलिसबल तैनात दिखा। पड़ोसियों ने भी गुस्सा जाहिर किया। कालोनी में जाने वाले मुख्य संकरे रास्ते को ठेलों से बंद किया गया था और पड़ोस के लोग सुरक्षात्मक रूप से दोनों महिलाओं के आसपास खड़े थे। पवन की मां आसमान को ताक रही थी और उसके आंसू बह रहे थे। विनय की मां भी उसके बगल में चुप बैठी थी और लंबे समय से उनके पड़ोस में रहने वाले लोग सांत्वना दे रहे थे।
शोकाकुल मां के बगल में बैठी एक महिला ने कहा, '' इतने साल कोई हमारा दुख जानने नहीं आया, अब क्यों आ रहे हैं।'' इस कालोनी में एक नाबालिग समेत चार दोषियों के घर हैं। इनमें से एक दोषी राम सिंह ने कथित तौर पर तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली थी जबकि नाबालिग को बाल सुधार गृह में कुछ समय रखा गया था। राम सिंह और मुकेश सिंह की विधवा मां इलाका छोड़कर राजस्थान चली गई थी।

दोस्तों अगर आप लोगों को हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी, तो इसे अपने चाहने वालों के साथ शेयर करें।