दिल्ली के कोरोना मरीजों में रिकवरी रेट 60% से ज्यादा - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

दिल्ली के कोरोना मरीजों में रिकवरी रेट 60% से ज्यादा

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में रहने वालों के लिए खुशखबरी है। कोरोनावायरस वायरस के संक्रमण से उबरने वाले रोगियों की संख्या में तेजी से वृद्धि के संकेत मिले हैं। पिछले कुछ दिनों के भीतर, दिल्ली में कोरोना संक्रमण से रिकवरी की दर पहली बार 60 प्रतिशत से अधिक हो गई है।

गुरुवार तक, दिल्ली में कोरोनावायरस संक्रमण के कुल 77,240 मामले सामने आए थे। इनमें से 47,091 मरीज शुक्रवार तक कोरोना संक्रमण से उबरने के बाद घर लौट आए। तदनुसार, दिल्ली में 60.96% रोगी कोरोना संक्रमण से ठीक हो गए हैं।

देश की राजधानी में कोरोना संक्रमण से उबरने वाले रोगियों की संख्या पिछले 10 दिनों में लगभग तीन गुना बढ़ गई है। 15 जून तक, दिल्ली में कुल 16,427 मरीज ठीक हो गए थे, लेकिन 10 दिन बाद, 26 जून तक कोरोना से ठीक होने वाले रोगियों की संख्या लगभग 47,091 हो गई है।

दिल्ली में, एक सप्ताह पहले कोरोना से मृत्यु दर 4 प्रतिशत से अधिक हो गई थी। अब यह मामला कम हो गया है। शुक्रवार तक दिल्ली में मृत्यु दर घटकर 3.22 प्रतिशत पर आ गई। कुल 77,240 संक्रमित रोगियों में से 2492 की यहां मौत हुई है।

स्थिति में सुधार के संकेतों को देखते हुए, दिल्ली सरकार ने प्रत्येक व्यक्ति के लिए एक कोरोना जाँच करने की घोषणा की है जो 15 मिनट के लिए कोरोना रोगी के संपर्क में है। फिर उसके अंदर कोई लक्षण है या नहीं। केंद्र के निर्देश पर, दिल्ली स्वास्थ्य निदेशालय ने बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए यह निर्णय लिया है। यही नहीं, घर के अलगाव में रहने वाले कोरोना रोगी के परिवार ने भी कोरोना परीक्षा अनिवार्य कर दी है।

बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि सरकार होम करंटाइन के तहत इलाज कर रहे सभी मरीजों को ऑक्सीमीटर प्रदान करेगी। ताकि सांस रुकने या सांस लेने में कठिनाई के कारण तत्काल मौत को रोका जा सके। इसके साथ ही कोरोना के मरीजों के लिए बेड की संख्या बढ़ाने पर काम चल रहा है। प्लाज्मा थेरेपी परीक्षण को जारी रखने का भी निर्णय लिया गया है।