मोदी का कार्यकाल राजनैतिक किस्सा नहीं बल्कि बन गया है राष्ट्रनीति का हिस्सा : मुख्तार - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

मोदी का कार्यकाल राजनैतिक किस्सा नहीं बल्कि बन गया है राष्ट्रनीति का हिस्सा : मुख्तार

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo

लखनऊ। केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने डिजिटल माध्यमों से जन संवाद करते हुए कहा कि मोदी सरकार के समावेशी विकास, सर्वस्पर्शी सशक्तिकरण के सफल परिणामों से परेशान कुछ लोग देश में अल्पसंख्यकों के बीच ‘भय-भ्रम का भूत’ खड़ा करने का ‘पाखंडी प्रयास’ कर रहे हैं। आज लखनऊ क्षेत्र के भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा वर्चुअल सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए नकवी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 6 वर्षों के कार्यकाल में समावेशी विकास ‘राजनैतिक किस्सा नहीं बल्कि राष्ट्रनीति का हिस्सा’ बन गया है। समाज के सभी वर्गों के साथ अल्पसंख्यक भी समृद्धि, सशक्तिकरण एवं सम्मान के बराबर के हिस्सेदार व भागीदार बने हैं। मोदी सरकार की उपलब्धियों व कोरोना के वैश्विक आपदाकाल में आत्मनिर्भर भारत से स्वदेशी-स्वाबलम्बी व समृद्ध भारत के मंत्र को जन-जन के मन तक पहुंचाने के लिए पार्टी के मोर्चे जिला वर्चुअल सम्मेलनों से जनता से जुड़ रहे है।

नकवी ने कहा कि मोदी सरकार ने हर जरूरतमंद की आँखों में खुशी, जिंदगी में खुशहाली के संकल्प के साथ काम किया है जिसका नतीजा है कि समाज का हर एक हिस्सा बिना भेदभाव के तरक्की के सफर का हमसफर बन कर आगे बढ़ रहा है। नकवी ने कहा कि हमारे देश में ही कुछ ऐसे लोग, संस्थाएं, संगठन सक्रीय हैं जो समावेशी समृद्धि, सशक्तिकरण एवं सम्मान के सफर पर अपनी संकीर्ण सोंच का पलीता लगाने में व्यस्त हैं। जहाँ एक ओर मोदी सरकार, समाज के सभी वर्गों में “समृद्धि-सम्मान-सुरक्षा” के संकल्प के साथ काम कर रही है वहीं कुछ लोग समाज में दहशत और डर का माहौल खड़ा करने की “आपराधिक साजिश” में लगे हुए हैं। भारत को दुनिया में बदनाम करने की ‘साजिशी सियासत’ कर रहे हैं, हमें ऐसे सौहार्द-समृद्धि एवं सम्मान के दुश्मनों से सतर्क भी रहना है और उन्हें बेनकाब भी करना है।
नकवी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी दुनिया की सबसे बड़ी राजनैतिक पार्टी ही नहीं बल्कि एक ‘समावेशी परिवार’ है। जहाँ कुछ पार्टियां एक खानदान के सीमित दायरे में सिमटी हैं वहीँ भाजपा सभी धर्म, जाति, क्षेत्र के लोगों का एक ‘वृहद् परिवार’ है, जहाँ जाति-धर्म-परिवार से ऊपर उठकर सबका साथ-सबका विकास, सबका विश्वास के सिद्धांत एवं ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के संकल्प के साथ काम होता है।  
नकवी ने कहा कि मोदी सरकार की विभिन्न योजनाओं जैसे प्रधानमंत्री आवास योजना, उज्ज्वला योजना, आयुष्मान भारत योजना, किसान सम्मान निधि, जन धन योजना, मुद्रा योजना, विद्युतीकरण, प्रधानमंत्री सड़क योजना, एक देश-एक राशन कार्ड आदि का लाभ समान तरीके से अल्पसंख्यक समुदायों के गरीब, कमजोर तबकों को भी मिल रहा है।
नकवी ने कहा कि अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा पिछले लगभग 5 वर्षों में हुनर हाट के माध्यम से 5 लाख से ज्यादा कारीगरों, शिल्पकारों और उनसे जुड़े लोगों को रोजगार और रोजगार के अवसर मुहैया कराये गए हैं। उस्ताद, गरीब नवाज स्वरोजगार योजना, सीखो और कमाओ, नई मंजिल आदि रोजगारपरक कौशल विकास योजनाओं के माध्यम से पिछले 6 वर्षों में 10 लाख से ज्यादा अल्पसंख्यकों को रोजगारपरक कौशल विकास और रोजगार और रोजगार के मौके उपलब्ध कराये गए हैं। इनमें 50 प्रतिशत से अधिक लड़कियां शामिल हैं। अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के कौशल विकास कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षित हजारों स्वास्थ्य सहायक कोरोना से प्रभावित लोगों की सेहत-सलामती की सेवा में लगे है।
नकवी ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने देश भर में वक्फ संपत्तियों पर स्कूल, कालेज, हास्पिटल, सामुदायिक भवन आदि के निर्माण के लिए प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम (पीएमजेवीके) के तहत शत-प्रतिशत फंडिग की है। पिछले लगभग 6 वर्षों के दौरान मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के तहत देश भर के उपेक्षित अल्पसंख्यक बाहुल्य क्षेत्रों में आर्थिक-शैक्षिक-सामाजिक एवं रोजगारपरक गतिविधियों के लिए बड़ी संख्या में इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण कराया है।
इसके साथ ही किसान, युवा, महिला, अनुसूचित, पिछड़ा, अल्पसंख्यक मोर्चो के जिला सम्मेलनों के माध्यम से जनमानस तक अनुच्छेद 370 व 35ए की समाप्ति, नागरिकता संसोधन कानून, श्री राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण, मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक से मुक्ति के मोदी सरकार के ऐतिहासिक निर्णयों को तथा उन निर्णयों की वास्तविकता व अवश्यकता को जनमानस तक पहुंचाने का काम किया गया और महामारी से बचाव के लिए जागरूकता व जन-जागरण का कार्य भी हुआ।  (आईपीएन)