सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना हो सकता है जानलेवा, सर्वे में हुआ खुलासा - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना हो सकता है जानलेवा, सर्वे में हुआ खुलासा

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo

अभी लोग घबराहट और घबराहट में कोरोना वायरस से बचने के लिए सैनिटाइजर तरल का उपयोग कर रहे हैं। यह बात कभी-कभी उनके लिए परेशानी का कारण बन जाती है। लोग अपने हाथों को साफ नहीं कर रहे हैं, लेकिन उन्होंने सैनिटाइजर से ही सब्जियों, फलों और खाद्य पदार्थों की सफाई शुरू कर दी है। लेकिन ऐसा करना बहुत बुद्धिमानी नहीं है।

अब इस बारे में एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। अमेरिकी स्वास्थ्य एजेंसी सीडीसी के एक ऑनलाइन सर्वेक्षण में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए। अमर उजाला ने सीडीसी के सर्वेक्षण से उद्धृत किया है कि अमेरिका में लोगों ने भोजन में ब्लीच मिलाया है और ब्लीच के साथ खाद्य पदार्थों को साफ किया है। सर्वेक्षण 500 से अधिक लोगों पर किया गया था।

सेंटर फॉर रिसर्च एंड डीसीस कंट्रोल ने मई में एक ऑनलाइन सर्वेक्षण किया। इस सर्वे में यह बात सामने आई है कि 19 प्रतिशत लोग कोरोना से बचने के लिए अपने भोजन में ब्लीच को शामिल कर रहे हैं और ब्लीच से खाद्य पदार्थों को साफ करते हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना ​​है कि ऐसा करना लोगों के लिए बहुत हानिकारक साबित हो सकता है।

यह विधि वायरस से बचाव के अलावा अन्य समस्याओं का कारण बन सकती है। इसके साथ, सर्वेक्षण में यह भी कहा गया है कि लोग अभी भी फर्श क्लीनर के साथ अपने शरीर को कीटाणुरहित कर रहे हैं। इस दौरान, कई लोगों ने क्लीनर को इनहेल भी माना है। ऑनलाइन सर्वेक्षण में शामिल इन लोगों के शरीर पर इन चीजों के उपयोग के हानिकारक प्रभाव भी देखे गए हैं।

शोधकर्ताओं ने यह चेतावनी भी दी है कि यह बहुत हानिकारक है। उनका कहना है कि ब्लीच, सैनिटाइजर और अन्य क्लीनर आदि का उपयोग करते समय अत्यधिक सावधानी बरती जानी चाहिए अन्यथा परिणाम घातक साबित हो सकते हैं।

सर्वेक्षण में शामिल 18 प्रतिशत लोगों ने स्वीकार किया कि उन्होंने अपनी त्वचा पर एक क्लीनर का इस्तेमाल किया है। इसी समय, 10 प्रतिशत लोगों ने स्वीकार किया कि उन्होंने खुद पर कीटाणुनाशक का छिड़काव भी किया। 36 प्रतिशत ने माना कि उन्होंने इस पद्धति के उत्पादों का दुरुपयोग किया है, 6 प्रतिशत ने क्लीनर पी लिया है, जबकि 4 प्रतिशत ने शराब और ड्रग्स जैसे कि साबुन का पानी, ब्लीच और अन्य कीटनाशक तरल पदार्थों का सेवन किया है। स्वीकार किए जाते हैं।

इस संबंध में, ICMR, यानी इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने शरीर पर किसी भी प्रकार के ब्लीच, सैनिटाइज़र या क्लीनर के उपयोग से बचने के लिए इस बारे में एक सीधी चेतावनी जारी की है। भोजन और पेय पर सैनिटाइज़र का सीधा उपयोग समस्याओं का कारण बन सकता है। इससे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि सैनिटाइजर का इस्तेमाल हाथों और धातु से बनी चीजों को सैनिटाइज करने के लिए किया जा सकता है।

शेषनागियों का कहना है कि हाथ प्रक्षालक का उपयोग केवल तब किया जाना चाहिए जब साबुन और पानी उपलब्ध न हो। सैनिटाइजर का बहुत ज्यादा इस्तेमाल नुकसान पहुंचा सकता है। कई अध्ययनों में यह पाया गया है कि हैंड सैनिटाइजर में अल्कोहल की मात्रा अधिक होने के कारण यह वायरस को मारने में सक्षम है।

हालांकि, बाद के अध्ययनों ने इसके अत्यधिक उपयोग के साइड इफेक्ट भी दिखाए हैं। यह पाया गया है कि सैनिटाइजर के अत्यधिक उपयोग से हाथों में सूखापन, खुजली और कई अन्य समस्याएं हो सकती हैं।

सीएसआईआर-इंस्टीट्यूट ऑफ टॉक्सिकोलॉजी रिसर्च के डॉ. आलोक धवन ने कहा, 'हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल सावधानी से किया जाना चाहिए। इसका उपयोग केवल तब करें जब साबुन और पानी उपलब्ध न हो। सैनिटाइजर के दो से तीन मिलीलीटर का उपयोग करने से कोई नुकसान नहीं है, लेकिन हर 20 मिनट में सैनिटाइजर का उपयोग करते रहना सही नहीं है। किसी भी चीज के बहुत ज्यादा इस्तेमाल से बुरा असर पड़ता है। '