सिंधिया खेमे को लेकर फंसा पेंच, शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार टला - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

सिंधिया खेमे को लेकर फंसा पेंच, शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार टला

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo

नई दिल्ली. मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान के मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर पेंच फंसा हुआ है। इसके कारण मंगलवार को होने वाला कैबिनेट विस्तार स्थगित कर दिया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और अन्य भाजपा नेताओं के भोपाल लौटने का कार्यक्रम भी स्थगित कर दिया गया है। जानकार सूत्रों का कहना है कि पेंच मुख्य रूप से सिंधिया खेमे के विधायकों को मंत्री बनाने में शामिल है। मामला सुलझने के बाद बुधवार को कैबिनेट विस्तार हो सकता है।

नए मंत्रियों को शपथ दिलाने के लिए मध्य प्रदेश की कमान संभालने वाली यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का कार्यक्रम सोमवार को भोपाल में स्थगित कर दिया गया है। अब मंत्रियों की सूची पूरी तरह से तैयार होने के बाद राज्यपाल का कार्यक्रम तय किया जाएगा।

जानकार सूत्रों का कहना है कि कैबिनेट विस्तार को आलाकमान ने मंजूरी दे दी है, लेकिन कैबिनेट में शामिल होने वाले चेहरों पर शिकंजा कस गया है। वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ 22 विधायकों के भाजपा में शामिल होने के मामले में पेंच है। अब तक, इस पर अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है कि सिंधिया के कितने समर्थक विधायकों को मंत्रिमंडल में जगह दी जानी चाहिए।

सिंधिया के दो विधायकों को पहले ही शिवराज मंत्रिमंडल में जगह दी जा चुकी है। अब उन्हें मंत्री बनाने के लिए सिंधिया द्वारा आठ और विधायकों का नाम लिया गया है। कमलनाथ सरकार में सिंधिया खेमे के 22 में से 6 विधायक मंत्री थे। अब सिंधिया चाहते हैं कि और विधायक मंत्री बनें। अगर सिंधिया के कई समर्थकों को मंत्री बनाया जाता है, तो भाजपा को अपने कई नेताओं के नाम काटने पड़ेंगे, और पार्टी हाईकमान को पार्टी में असंतोष का खतरा महसूस हो रहा है।

मध्य प्रदेश में पार्टी के भीतर कोई असंतोष जल्द ही विधानसभा की कई सीटों पर होने वाले उप-चुनावों में भाजपा के लिए महंगा साबित होगा। ऐसे में पार्टी नेतृत्व कैबिनेट विस्तार के मुद्दे पर बह रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिल्ली में कैबिनेट विस्तार के मुद्दे पर गृह मंत्री अमित शाह, पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा, ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ व्यापक चर्चा की। वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मिल चुके हैं लेकिन नए मंत्रियों के चेहरे अभी तक फाइनल नहीं हुए हैं। इस कारण से, मंत्रिमंडल विस्तार को स्थगित कर दिया गया है।

पार्टी हाईकमान की ओर से वरिष्ठ राज्य मंत्री और भाजपा सरकार बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले नरोत्तम मिश्रा को अचानक दिल्ली तलब किया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और नरोत्तम मिश्रा के अलावा पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा और संगठन महासचिव सुहास भगत भी दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं। इन सभी नेताओं के साथ गहन मंथन चल रहा है।

राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि कमलनाथ की सरकार को गिराने में प्रमुख भूमिका निभाने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी जल्द ही मोदी कैबिनेट में शामिल करने का आश्वासन दिया गया है। पार्टी आलाकमान द्वारा नए राज्यसभा सांसदों को शपथ दिलाने के बाद मंत्रिमंडल विस्तार की बात हुई है। विशेषज्ञों के अनुसार, सिंधिया रेल मंत्रालय के लिए उत्सुक हैं। हालांकि, मंत्रालय की ओर से पार्टी की ओर से कोई वादा नहीं किया गया है।