मनीष सिसोदिया की HRD मंत्री से अपील, न कराएं CBSE की बची हुईं परीक्षाएं - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

मनीष सिसोदिया की HRD मंत्री से अपील, न कराएं CBSE की बची हुईं परीक्षाएं

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo

कोरोना वायरस के संक्रमण से देश की राजधानी बुरी तरह प्रभावित है। हर दिन, मामलों में तेजी से बढ़ रहे हैं। ऐसे में दिल्ली में सीबीएसई की बची हुई परीक्षा देना यहां की परिस्थितियों को देखते हुए एक जोखिम भरा कदम हो सकता है। इस स्थिति का उल्लेख दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने किया है। शिक्षा मंत्री ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को एक पत्र लिखा है, जिसमें अनुरोध किया गया है कि शेष सीबीएसई बोर्ड परीक्षा रद्द कर दी जाए। 17 जून को लिखे गए एक पत्र में, शिक्षा मंत्री ने विभिन्न कारणों पर प्रकाश डाला है। उन्होंने लिखा कि राजधानी में बढ़ते मामलों और स्कूलों की अनुपलब्धता के कारण परीक्षा आयोजित करना कितना कठिन है।

छात्रों की सुरक्षा के लिए सबसे बड़ी चिंता का विषय है, सिसोदिया ने पत्र में लिखा है कि दिल्ली में कोरोना के मामले पहले से ही तेजी से बढ़ रहे हैं। पत्र लिखने के समय राजधानी में कुल मामलों की संख्या 44,688 थी। वहीं, जुलाई के अंत तक लगभग 5.5 लाख मामलों की उम्मीद है। ऐसे में बच्चों की सुरक्षा को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।

इसके अलावा, शिक्षा मंत्री ने परीक्षा आयोजित करने के लिए स्कूलों की अनुपलब्धता की भी जानकारी दी है। पत्र में वह लिखते हैं कि वर्तमान में 343 स्कूल भवन विभिन्न COVID19 राहत कार्यों के लिए उपयोग किए जा रहे हैं। इनमें से 251 वितरण केंद्र थे, 33 भूख राहत केंद्र थे, 39 आश्रय गृह थे, 10 प्रवासी शिविर थे और 10 संगरोध केंद्र थे। ऐसे में इन स्कूलों में परीक्षाएं कैसे संभव हैं।

इसके अलावा, बेड की उपलब्धता बढ़ाने के लिए, दिल्ली सरकार 242 स्कूलों के सभागार का उपयोग करने की योजना बना रही है। ऐसी स्थिति में, 1 से 15 जुलाई के बीच स्कूल भवन में परीक्षा सुनिश्चित करना और सभी छात्रों को परीक्षा देना सुनिश्चित करना बहुत मुश्किल होगा।