भारत ने कोरोना वायरस पर उठाया ये कड़ा कदम, WHO को करारा झटका - AcchiNews.com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम

AcchiNews.Com अच्छी न्यूज़ डॉट कॉम is Hindi Motivational Inspirational quotes site here you can find all positive khabar in hindi.

Earn Money

भारत ने कोरोना वायरस पर उठाया ये कड़ा कदम, WHO को करारा झटका

Mi सेल लगी मात्र 1 रुपये में कई प्रोडक्ट आपके हो सकते हैं अभी अप्लाई करो www.saleoffer.online Or पाइये paytm 1000 रुपये रिचार्ज आफर https://ift.tt/2OqCzSo

नई दिल्ली. कोरोना वायरस को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) पर कई आरोप लगे हैं। कोरोना वायरस युद्ध में डब्ल्यूएचओ की भूमिका पर कई देशों ने सवाल उठाए हैं। अब भारत ने भी कोरोना वायरस की इस लड़ाई में विश्व स्वास्थ्य संगठन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

एक बार फिर भारत ने WHO को करारा झटका दिया है। भारत ने अपने नए निर्देशों और शोध के साथ डब्ल्यूएचओ को संकेत दिया है कि देश अब कोरोना वायरस के इस युद्ध में अकेले जाएगा।

देश हित में अनुसंधान और उपचार आवश्यक होगा। साथ ही भारतीय वैज्ञानिकों को यह स्पष्ट कर दिया गया है कि उन्हें विश्व स्वास्थ्य संगठन के किसी सुझाव की आवश्यकता नहीं है। आपको बता दें कि हाल ही में WHO ने सदस्य को एक निर्देश जारी किया था जिसमें कहा गया था कि हाइड्रोक्सी क्लोरोक्विन दवा कोरोना वायरस के उपचार में खतरनाक साबित हो सकती है। इसलिए, दवा का परीक्षण बंद कर दें।

लेकिन भारतीय वैज्ञानिकों ने इस दवा पर शोध किया है, साथ ही डॉक्टरों को बताया है कि कोरोना के उपचार में इस दवा की रोकथाम संभव हो सकती है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने अपने नवीनतम शोध में कहा कि हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन दवा के सेवन से कोरोना वायरस के संक्रमण के जोखिम में कमी देखी गई।

गौरतलब है कि डब्लूएचओ पर कोरोना वायरस फैलाने का आरोप लगाया गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भी कोरोना वायरस युद्ध में डब्ल्यूएचओ की भूमिका पर सवाल उठाया है। इसने WHO को इसके फंडिंग पर भी रोक लगा दी है। डोनाल्ड ट्रम्प ने विश्व स्वास्थ्य संगठन पर भी चीन का पक्ष लेने का आरोप लगाया है। ट्रम्प ने डब्ल्यूएचओ को चीन के हाथों की कठपुतली कहा। अमेरिका सहित कई देशों ने कोरोना वायरस युद्ध में डब्ल्यूएचओ की भूमिका की जांच के लिए बुलाया है।